उत्तर प्रदेश जालौन

योगी के राज में सरकारी स्कूलों की व्यवस्था चौपट,पढ़ाने के समय लटके ताले

उरई (जालौन)।(गोविंद सिंह दाऊ):-. योगी सरकार की सुस्ती कहें या शिक्षा विभाग के लापरवाह अधिकारियों की हठधर्मिता,कि देश के भविष्य नौनिहालों के पढ़ाने के समय सरकारी स्कूलों में ताले लटके हैं। शिक्षा विभाग के अधिकारियों का ध्यान इस ओर आकृष्ट कराया जाए तो खाना पूर्ति के नाम पर स्पष्टीकरण देकर जवाब मांग लिया जाता है। उसके बाद आपस में फीलगुड कर मामला दबा दिया जाता है।
ब्लॉक माधौगढ़ के अतरेंहटी ग्राम पंचायत में सरकारी स्कूलों की हालत इतनी खराब है कि न तो समय से बिद्यालय खुल रहे हैं न ही उनमें पढ़ाई हो रही है। मिडडेमील में बाजीगरबाजी का खेल चल रहा है। हद तो तब हो गई, जब मढेला के प्राथमिक विद्यालय में अध्यापिका स्कूल के छात्र से झाड़ू लगवाकर कमरे की सफाई करवा रही थीं। मौके पर उपस्थित प्रधान के साथ पत्रकार ने फ़ोटो उतारनी चाहिए तो अभद्रता पर उतारू हो गई।
सुबह 9 बजकर 58 मिनट पर प्राथमिक विद्यालय अहवासियनपुर में ताला लटका हुआ था। स्कूली बच्चे बाहर खेलने में मशगूल थे। खुशी, रितिका, अंजली, सुधा, ईशा ने बताया कि मैडम अभी नहीं आई हैं। 10 बजकर 4 मिनट पर प्राथमिक विद्यालय मढेला में 43 पंजीकृत छात्र-छात्रओं में से एक दर्जन बच्चे थे। जिसमें अध्यापिका ऋतु एक छात्र से कमरे में झाड़ू लगवाने में व्यस्त थी। कमरे की हालत देख कर लग रहा था।जैसे कमरा कई दिनों से बंद था। वहीं दूसरे अध्यापक अनिल कुमार नदारद थे। छात्र द्वारा झाड़ू लगाने की फ़ोटो निकालने की कोशिश की तो मैडम ने ग्राम प्रधान के सामने ही अभद्रता करते मोबाइल छीनने की कोशिश की। बाद में अपनी गलती का एहसास करते हुए कहने लगी कि सफाईकर्मी नहीं आया तो छात्र सहयोग कर रहा था। उच्च प्राथमिक विद्यालय अतरेंहटी में 10 बजकर 19 मिनट पर गेट पर ताला लगा हुआ था। जितेंद्र,सौरभी, अनुष्का,जूली और आकाश फ़ोटो उतरती देख कर स्कूल के गेट के पास आ गए। तैनात कोई भी अध्यापक मौके पर नहीं था। 10 बजकर 26 मिनट पर प्राथमिक विद्यालय कछार की मड़ैया में भी ताला लगा हुआ था। प्रधान अध्यापक विजय शाक्यवार और कमल कुमार कोई नहीं था। अतरेंहटी का प्राथमिक विद्यालय जरूर खुला हुया था लेकिन पढ़ाई के नाम पर बच्चे खेलने में व्यस्त थे। ज्योति,सुमित,तनिष्का से आज की पढ़ाई के बारें में पूछा तो सब चुप हो गए। 5 के संजय से जिला का नाम पूछा तो अपने जिले का नाम कछार ही बता दिया। जिससे यह तो तय है कि पढ़ाई के नाम पर मास्टरों की खूब मटरगस्ती हो रही है। साथ ही स्कूलों में मध्यान्ह भोजन में भी खूब आंकड़े पेश कर बच्चों का निवाला भी डकारा जा रहा है।
स्कूलों की ऐसी हालत पर बीईओ कमलेश गुप्ता ने कहा कि सभी को कारण बतायो नोटिस जारी किया जाएगा,साथ ही मढेला में अध्यापिका द्वारा झाड़ू लगवाने के मामले पर कार्यवाही की जाएगी। मोबाइल छुड़ाने की बात पर अध्यापिका ने कहा है कि गलती से धक्का लग गया।

इंसेट—

विद्यालय में कर्मचारियों को कारण बताओं नोटिस जारी

उरई । गुरुवार को माधौगढ़ ब्लॉक के सुरपतिपुरा गांव में स्कूल बंद होने की खबर प्रकाशित होने पर प्राथमिक विद्यालय में तैनात श्रीमती संतोषी सहायक अध्यापिका,विशंभर शिक्षा मित्र व उच्च प्राथमिक विद्यालय में सहायक अध्यापक महेश सिंह को कारण बतायो नोटिस जारी कर स्पष्टीकरण मांगा है।