शहीद जवानों को श्रद्धाजंलि देने व पाकिस्तान को सबक सिखाने के लिए मुस्लिम समाज उतरा सडकों पर
उत्तर प्रदेश जालौन

शहीद जवानों को श्रद्धाजंलि देने व पाकिस्तान को सबक सिखाने के लिए मुस्लिम समाज उतरा सडकों पर

० मुस्लिम बाहुल्य इलाकों में एतिहासिक रही बाजार बंदी

उरई (जालौन)।(गोविंद सिंह दाऊ):-. जम्मू काश्मीर के पुलवमा में आतंकी हमले में शहीद हुये देश के जवानों को सच्ची श्रद्धाजंलि देने और पाकिस्तान के विरोध में शहर के मुस्लिम बाहुल्य इलाके बजरिया आदि जगहों पर एतिहासिक बाजार बंदी रही तो वहीं सैकड़ो की संख्या में मुस्लिम समाज युवाओं ने सड़कों पर उतर कर पाकिस्तान विरोधी नारेबाजी जमकर की और उसे सबक सिखाने की पुरजोर मांग केंद्र सरकार से की।वैसे आज रविवार को समूचे जनपद में अमर शहीदों की शहादत पर एतिहासिक बाजार बंदी रही और पाकिस्तान के विरोध में जुलूस निकाल नारेबाजी कर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री का जगह-जगह पुतला फूंका गया। जिला मुख्यालय
उरई का शहीदों की शहादत पर समूचा बाजार बंद रहा और ब्यापारियों ने पाकिस्तान के विरोध में जुलूस निकाल कर वहां के प्रधानमंत्री की अर्थी निकाली इसके उपरांत शहर के घंटाघर चौराहे पर पहुंच कर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के पुतले को जूतों से पीटा और आग के हवाले कर दिया। आज के हर धर्मजति के ब्यापारियों ने अपने-अपने प्रतिष्ठान को बंद रखकर जुलूस निकाला जो समूचे शहर में निकाला गया बाद में घंटाघर चौराहा पर पहुंच कर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री का पुतला फूंका इससे पहले पुतले को जूतों से पीटा बाद में शहीद जवानों को भावभीनी श्रद्धाजंलि अर्पित की और सरकार से बदला लेने की अपील की। समाजसेवी यूसुफ अंसारी ने अपने साथियों हलीम अंसारी, शोएब अंसारी, आमिर अंसारी, नासिर अंसारी आदि के साथ मिलकर पाकिस्तान के विरोध में नारेबाजी कर शहर में जुलूस निकला इस दौरान मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्र के सभी प्रतिष्ठान स्वेच्छा से बंद रहे और अमर शहीदों को जगह-जगह श्रद्धाजंलि दी गयी। इस मौके पर हजारों की संख्या युवाओं, बुजुर्गों ने शहीदों को नमन कर पाकिस्तान के इस कृत्य की घोर निंदा की।

Leave a Reply