उत्तर प्रदेश जालौन

समय से अस्पताल की ओपीडी नहीं बैठते डा. बनौधा

० डाक्टर के इंतजार में भटकते रहते मरीज

उरई (जालौन)। सदर तहसील में राजस्व संग्रह अमीन पद पर तैनात सरनाम सिंह जिन्होंने ओपीडी से अपना पर्चा बनवाया और दिखाने के लिए जब डाक्टर अवनीश बनौधा के कक्ष में पहुंचे तो देखा कि साढे दस बजे तक वह नदारद थे और कुर्सी खाली पड़ी थी।
प्रदेश की योगी सरकार कितना भी प्रयास कर लें मगर सरकारी अस्पतालों तैनात चिकित्सक सुधरने का नाम नहीं ले रहे है जो समय पर अपने कक्ष में बैठकर आने वाले मरीजों तक को नहीं देखते है और मरीज डाक्टर की खोज में भटक कर घर जाने के लिए मजबूर हो जाता है। इसी तरह का कुछ हाल जिला चिकित्सालय का भी है। आज बुधवार को साढे दस बजे जब संवाददाता जिला अस्पताल की ओपीडी में पहुंचा तो डा. अवनीश बनौधा अपने कक्ष से नदारद थे और उनकी कुर्सी खाली पड़ी थी तथा मरीज डाक्टर साहब के आने का इंतजार कर रहे थे। अपना उपचार करवाने आये तहसील के राजस्व संग्रह अमीन सरनाम सिंह भी डाक्टर अवनीश बनौधा को दिखाने के लिये काफी देर तक भटकते रहे मगर डाक्टर साहब जब काफी देर तक नजर नहीं आये तो पीडित सरनाम सिंह को डाक्टर आर. पी. तिवारी के पास पहुंच कर उपचार करवाना पड़ा। बताते चले कि ओपीडी कक्ष में तैनात डाक्टर कभी कभार ही अपने कक्ष में बैठकर मरीजों को देखते हो वह तो डयूटी के समय अधिकतर नदारद रहते है और मरीज उनकी तलाश में इधर उधर भटकते रहते है।डाक्टर साहब की इस लापरवाही की ओर कोई जिम्मेदार नहीं देख रहा है और न ही इस लापरवाही पर उनके ऊपर कार्यवाही ही अमल में लायी जा रही है जिसका खामियाजा यहां आने वाली गरीब मरीजों को भुगतना पड़ रहा है।

Leave a Reply