उत्तर प्रदेश जालौन

सिटी स्केन मशीन होने के बाद भी मरीजों को नहीं मिल पा रहा लाभ

० जिला अस्पताल का हाल बेहाल

उरई (जालौन)।(गोविंद सिंह दाऊ):- जनपद में मरीजों को सिटी स्केन एवं डिजिटल
एक्सरा की सुविधा देने के लिए प्रदेश सरकार ने जिला चिकित्सालय में यह मशीन कई महीनों पहले लगवा दी थी, लेकिन अभी तक यह मशीन चालू न होने से अब वह धूल खा रही है।मशीन का संचालन न होने से मरीजों को भी सिटी स्केन कराने के लिए असुविधा का सामना करना पड़ रहा है और अन्य जगह ज्यादा पैसा खर्च करके सिटी स्केन करवाना पड़ रहा है।आखिर जिला चिकित्सालय इस मशीन को अभी तक क्यूं नहीं चालू करवा रहा है। महीनों पहले जिला अस्पताल में लगी सिटी स्केन मशीन का मरीजों को लाभ नहीं मिल पा रहा है।मशीन लगने के बाद अब कर्मचारियों के प्रशिक्षण की तिथि तय नहीं हो पा रही है।जिससे मरीजों को निराशा हाथ लग रही है।इस मामले में अधिकारी प्रशिक्षण का देकर पल्ला झाड़ते नजर आ रहे है।जिला अस्पताल में ग्रामीण अंचल व दूरदराज क्षेत्र के साथ ही शहर के लोग सस्ते दामों में उपचार कराने के लिए पहुंचते है।विगत माह मरीजों के दिमाग की जांच के लिए जिला अस्पताल में सिटी स्केन मशीन आ गयीं थी। लेकिन जनपद के लोगों को अब तक यह सुविधा नसीब नहीं हो सकी है।जबकि यहां आये दिन होने वाली वाहन दुर्घटनाओं में कई लोगों की गम्भीर हालत हो जाती है जिन्हें सिटी स्केन की आवश्यकता होती है। जिला अस्पताल में सिटी स्केन की सुविधा के अभाव में महंगे इलाज के लिए महानगरों की ओर रुख करना पड़ता है तो वहीं कुछ मरीजों की जाने में रास्ते में ही दम तोड़ देते है।पहले अस्पताल प्रबंधन मशीन चालू कराने के लिए विद्युत लोड बढवाने में लगा रहा जब यह समस्या हल हो गयी तो उसके सामने प्रशिक्षित कर्मचारियों की कमी आ गयी है।

इंसेट—

सिटी स्केन मशीन क्या है

उरई।शरीर के किसी भी हिस्से का या किसी भी अंग का सिटी स्केन करा सकते हैं। सबसे ज्यादा मस्तिष्क का सिटी स्केन ज्यादा किया जाता है।क्योंकि अगर हमारे दिमाग में किसी तरह की नस फट जाती है तो दिमाग की नस में खून जम जाता है तो उस अवस्था में उन चीजों का पता लगाने के लिए मस्तिष्क का सिटी स्केन किया जाता है।मशीन चालू न होने के कारण मरीजों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है और मशीन भी रखी-रखी धूल खा रही है।