उत्तर प्रदेश जालौन

स्थानांतरित सर्जन डा. बसंतलाल की रिलीव न किये जाने की मांग

डा. बसंतलाल के जाने के बाद बगैर सर्जन के चलेगा जिला चिकित्सालय
चांदी की जूती फेंक कर होना चाहते रिलीव

उरई (जालौन)।( गोविंद सिंह दाऊ):- जिला चिकित्सालय उरई सर्जन डा. बसंतलाल की तैनाती है जो एक मात्र सर्जन है। उन्होंने अपनी ऊंची पहुंच के चलते विगत माह पहले अपना स्थानांतरण कानपुर महानगर के लिए करवा लिया था। मगर जिला चिकित्सालय में सर्जन की कमी के चलते उन्हें यहां से स्वास्थ्य विभाग द्वारा रिलीव नहीं किया जा रहा है। क्योंकि उनके रिलीव होने के बाद जिला चिकित्सालय सर्जन विहीन हो जायेगा और सर्जीकल वाले मरीजों का उपचार कौन करेगा। इस सम्बंध में शहर के गणमान्य एवं सपा ने भानू वर्मा, कांग्रेस नेता गुलाब खां, बसपा नेता हसन खां आदि ने स्वास्थ्य विभाग व प्रशासन के अधिकारियों से मांग की है कि जब तक जिला चिकित्सालय में नये सर्जन की तैनाती नहीं हो जाती है तब तक सर्जन डा. बसंतलाल को यहां से रिलीव न किया जाये।
सूत्रों की माने तो जिला चिकित्सालय तैनात सर्जन डा. बसंतलाल स्थानांतरण के बाद से ही यहां से रिलीव होने के लिए एड़ी-चोटी का जोर शासन से लेकर प्रशासन तक पैसे की दम पर लगाये हुए है। सूत्र तो यहां तक बताते है कि सर्जन डा. बसंतलाल ने यहां से रिलीव होने के लिए सरकार के एक मंत्री से भी जुगाड़ लगा रखी है जिसके एवज में लम्बा सुविधा शुल्क भी पहुंचाया जा चुका है। इतना ही नहीं डा. बसंतलाल ने सीएमओ एवं सीएमएस से लेकर प्रशासन के अधिकारी को भी थाम रखा है जिसके एवज में उन्हें खुश भी किया जा चुका है जिससे उन्हें यहां से रिलीव कर दिया जाये। गोपनीय सूत्र तो यह भी बताते है कि स्वास्थ्य विभाग के एडी झांसी ने डा. बसंतलाल को इस लिए रोक रखा है कि उनके रिलीव करने के बाद जिला अस्पताल सर्जन विहीन हो जायेगा तो सड़क दुघर्टनाओं घायल मरीजों के अलावा वर्न केस सहित आदि आने वाले मरीजों का उपचार कौन करेगा। यहीं कारण है कि जब तक जिला अस्पताल में नये सर्जन की तैनती शासन द्वारा नहीं की जाती है तब तक सर्जन डा. बसंतलाल को यहां से रिलीव नहीं किया जा सकता है। वैसे भी जिला चिकित्सालय में विभिन्न रोगों से सम्बंधित कई चिकित्साकों की कमी चल रही है जिनकी कमी को अन्य चिकित्साकों द्वारा पूरा किया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *