० गली-कूचों में धडल्ले के साथ लूटा जा रहा गरीबों को

० सपा-बसपा की तर्ज पर चलने लगी भाजपा सरकार

उरई (जालौन)(गोविंद सिंह दाऊ):-. सपा और बसपा की सरकार में शहर के अन्दर सट्टा माफिया जमकर सक्रिय रहे और शहर की गली-कूचों में जमकर सटटे का खेल चला जिसमें सत्तादल व पुलिस का संरक्षण भी सटटा माफियाओं को मिलता रहा है। सपा की प्रदेश से सरकार जाने के बाद जैसे ही प्रदेश में योगी आदित्यनाथ की सरकार बनी वैसे ही सटटा माफियाओं के खिलाफ पुलिस प्रशासन ने अपना शिकंजा कसना शुरू कर दिया जिसका परिणाम यह देखने को मिला कि शहर के अन्दर से सटटा व माफिया भूमिगत हो गये जिससे आम गरीब लोगों को सटटे की लत से बचाया जा सका। जिसकी शहर के लोगों ने जमकर सराहना भी की। मगर अभी कुछ से शहर की हर गली-कूचे में सटटा माफिया सक्रिय हो गये है जो भूमिगत हो गये थे। अब फिर से गरीब व मजदूर जनता को लूटने का काम धडल्ले के साथ उनके एजेंट करते हुए देखे जा सकते है।वर्तमान में शहर के अन्दर जिन जगहों पर सट्टा पुलिस के संरक्षण में संचालित हो रहा है उनमें रामलीला मैदान, मौनी मंदिर, राठरोड पशु चिकित्सालय, ब्यामशाला के पास, पुरानी धर्मशाला मिटठू लाल टेकचंद के पीछे मैदान, गोपालगंज सब्जी मण्डी, कृष्णा टाकीज की गली, जयहिंद टाकीज की गली सहित आदि स्थानों पर सट्टा माफियाओं के एजेंट सक्रियता के साथ सटटा पर्ची लेने का काम करते हुए देखे जा सकते है। सूत्रों मानें तो बताया जाता है कि सटटा माफियाओं के द्वारा पहले से ही एडवांस माहवारी सुविधा शुल्क पुलिस के जिम्मेदार लोगों को पहुंचा दिया जाता है साथ ही क्षेत्र के चौकी प्रभारी व अन्य पुलिस कर्मियों को भी उनके हिसाब से नजराना माफियाओं के द्वारा भेंट कर दिया जाता है। यहीं कारण हैँ कि शहर के अन्दर सटटा माफिया और उनके एजेंट सक्रिय होते जा रहे है। इसके बाद भी पुलिस के जिम्मेदार सटटा माफियाओं के ऊपर हाथ डालने से कतराते हुए देखे जा रहे है.और गरीब व मजदूर सटटा के जाल में फंसकर लूटता नजर आ रहा है।मगर शहर कोतवाली की पुलिस हैं जो कानों में तेल डालें बैठी हुई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *