सिमिरिया में वन क्षेत्र की करायी नांप, गुढ़ा में पकड़ा मौरम डंप


अतिरिक्त मजिस्ट्रेट ने अवैध मौरम माफियाओं पर कसा शिकंजा

उरई (जालौन)।(गोविंद सिंह दाऊ):-। जनपद में पट्टाधारकों व अवैध मौरम माफियाओं के विरुद्ध अतिरिक्त मजिस्ट्रेट गुलाब सिंह के द्वारा चलाये जा रहे कार्यवाही अभियान के क्रम में सोमवार को वह बेतवा नदी किनारे सिमिरिया मौरम घाट पर जा पहुंचे जहां पर उन्होंने साथ में चल रही टीम के कर्मचारियों से वन क्षेत्र व पट्टाधारक की जमीन की नांपजोख कराना शुरू किया तो मौके पर मौजूद पट्टाधारक के गुर्गों के चेहरे उतर गये। इसी के साथ उन्होंने ग्राम गुढ़ा में जब मौरम का डम्प लगा देखा तो उसे भी सीज करने के निर्देश दिये।
पिछले काफी समय से ग्रामीणों द्वारा जिलाधिकारी से जनपद के विभिन्न स्थानों से अवैध मौरम खनन के साथ ही पट्टाधारकों द्वारा वन विभाग व निजी किसानों की जमीनों से अवैध तरीके से मौरम का खनन करने की शिकायतें मिलने के बाद डीएम ने अतिरिक्त मजिस्ट्रेट गुलाब सिंह को ऐसे स्थानों पर पहुंचकर हकीकत की जानकारी करने के साथ ही अवैध तरीके से मौरम खनन करने वालों के विरुद्ध कानूनी कार्यवाही करने के निर्देश दिये थे। इसी क्रम में सोमवार को गुलाब सिंह अपने साथ खनिज अधिकारी व वन विभाग की टीम के साथ सिमिरिया जा पहुंचे जहां पर उन्होंने वन विभाग की भूमि की नांप जोख कराना शुरू किया तो पट्टाधारक के गुर्गे पसीना छोड़ने नजर आये। साथ ही उनके वहां पर पहुंचते ही भगदड़ जैसा नजारा भी देखने को मिला। इसके साथ ही अतिरिक्त मजिस्ट्रेट को ग्राम गुढ़ा में मौरम डम्प लगा दिखा तो उसे भी सीज करने के निर्देश दिये। इससे पूर्व भी अतिरिक्त मजिस्ट्रेट ने 27 मई को टीकर, 28 मई को गुढ़ा, खरका (कुरौना) में 30 मई को पहुंचकर बेतवा नदी से अवैध मौरम लाने की रास्ताओं को खुदवा दिया था। साथ ही ग्राम टीकर में अनेकों स्थानों पर की गयी मौरम डम्प करने वालों के विरुद्ध कार्यवाही के निर्देश भी दिये थे।

× How can I help you?