A2Z News UP

खबर वहीं जो सत्य हो

कोरोना काल से सपा जिलाध्यक्ष अलोप


प्रदेशीय आवाहन होने वाले कार्यक्रमों में भी नहीं ले रहे हिस्सा
० सपा के वरिष्ठ कार्यकर्ताओं को अध्यक्ष का पता नहीं लोकेशन

उरई (जालौन)(गोविन्द सिंह दाऊ):-। केंद्र व प्रदेश की भाजपा सरकार की जन विरोधी नीतियों के विरोध में प्रदेशीय नेतृत्व के आवाहन पर सपा, बसपा, समाजवादी पार्टी प्रगतिशील (लोहिया), शिवपाल सिंह यादव फैंस एशोसिएशन और कांग्रेस पार्टी के द्वारा विरोध प्रर्दशन कर राज्यपाल को सम्बोधित ज्ञापन दिये जाने का क्रम जारी है जिसमें पार्टी के जिलाध्यक्ष भी अपनी सहभागिता निभाते हुए कार्यकर्ताओं की हौसला अफजाई करते हुए देखे जाते है। मगर सपा अध्यक्ष की मौजूदगी तो छोड़ो कार्यक्रम तक कि कोई जानकारी किसी नेता और कार्यकर्ता को नही मिलती नाम न छापने की शर्त पर कुछ नेताओं ने तो यहां तक कहा की मीडिया और सोशल मीडिया के जरिये कुछ जानकारी हो जाती है जब से कोरोना संक्रमण वायरस ने दस्तक दी तब से सपा जिलाध्यक्ष नदारद दिखाई दे रहे यहीं कारण है कि प्रदेशीय नेतृत्व के आवाहन पर सरकार की नीतियों के विरोध में जो भी कार्यक्रम आयोजित किये गये जैसे डीजल-पेट्रोल की कीमतों में बढ़ोत्तरी का मुद्दा हो या फिर कानपुर के राजकीय बालगृह में 57 लड़कियों के कोरोना पाँजिटिव का मामला हो या फिर प्रवासी मजदूरों को काम न मिलने का मुद्दा हो को लेकर सपा नगर कमेटी उरई के साथ ही चन्द लोगों ने तहसील स्तर पर सपा के फ्रंटल अध्यक्षों द्वारा भाजपा सरकार की नीतियों के विरोध में राज्यपाल को सम्बोधित ज्ञापन प्रशासन को भेंट कर अपना विरोध दर्ज करवाया है मगर समाजवादी पार्टी के जिलाध्यक्ष ने पार्टी के कार्यक्रम में हिस्सा लेना उचित ही नहीं समझा है। सूत्र तो बताते है कि जब से जनपद में कोरोना महामारी ने दस्तक दी है तभी से सपा जिलाध्यक्ष के दर्शन कार्यकर्ताओं को नहीं हुए है यहां तक कि सपा के वरिष्ठ कार्यकर्ता अपने जिलाध्यक्ष की तलाश में इधर उधर भटकते भी देखे जा रहे है वह कहते है कि पार्टी द्वारा आयोजित होने वाले सरकार विरोधी कार्यक्रम में सपा जिलाध्यक्ष का शामिल न होना शहर से लेकर ग्रामीणों क्षेत्रों में चर्चा का विषय बना हुआ है। जबकि पार्टी के जिला स्तरीय कुछ पदाधिकारी जरूर सरकार विरोधी आंदोलन में हिस्सा लेकर पार्टी की इज्ज़त बचाने का काम करते हुए जरूर नजर आ रहे है। सपा के कुछ वरिष्ठ नेताओं का तो यहां तक कहना है कि प्रदेशीय नेतृत्व से आने वाले कार्यक्रमों की सूचना तक जिलाध्यक्ष द्वारा नहीं दी जाती है जिसके कारण पार्टी के जिला स्तर पर होने वाले आंदोलनों में कार्यकर्ताओं की संख्या कम ही नजर आ रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *