आखिर क्यों न फूटे कोरोना बम, खुलेआम उड़ रही नियमों की धज्जियां



उरई(जालौन)( गोविंद सिंह दाऊ):-।जिले में कोरोना पॉजिटिव संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है, मगर लोग इस बात की अनदेखी कर रहे हैं। बाजार की भीड़ देखकर ऐसा लगता है, कि कोरोना जैसी महामारी कभी थी नहीं। इतना ही नही बाज़ार में खरीदारी करने के मामलों में पुरुषों से ज्यादा महिलाएं इस रेस का हिस्सा बन रहीं है। नतीजन बाज़ारो की भीड़ और बेखौफ घूमने वाले लोग स्वयं ही कोरोना को खुलेआम निमंत्रण देने में लगे हैं। बीते रविवार को जिले में कोरोना बम फूटा और एक साथ 74 केस कोरोना पॉजिटिव पाएं गए जिसमें जिसमें एक जनप्रतिनिधि के साथ 29 कैदी भी शामिल थे। लिहाजा इस हिसाब से देखा जाएं तो लोगों के मन मे कोरोना का भय होना चाहिये किंतु स्थिति ठीक इसके विपरीत स्थिति देखी जा रही है। सोमवार को जैसे ही बाज़ार खुला तो भीड़ का जनसैलाब दुकानों पर उमड़ पड़ा। दुकानों पर सैकड़ो की संख्या में कस्टमर्स खरीदारी करने में लगे हुए थे। आलम यह था कि जैसे कोरोना जनपद से रफूचक्कर हो चुका है।

इंसेट-
न ही मास्क ओर न ही सोशल डिस्टेंसिंग का हो रहा पालन
उरई। जिले में अब तक 304 कोरोना संक्रमण के केस सामने आ चुके हैं। इसके बावजूद लोग इसके प्रति संजीदा नज़र नही आ रहे हैं, और संक्रमण की अनदेखी कर बेवजह घरों से निकल रहे हैं। इससे बाजार, सरकारी कार्यालय, बैंक सभी स्थानों पर लोगों की भारी भीड़ जमा हो रही है। ऐसे हालातों में शारीरिक दूरी का पालन भी नहीं हो पा रहा है। सोमवार को सदर बाजार, सब्जी मंडी, गल्ला मंडी की दुकानों पर लोगों की भारी भीड़ रही। बाजार में लोग न तो मास्क का प्रयोग कर रहे थे और न ही शारीरिक दूरी का पालन। दुकानदारों ने अनलॉक शुरू होने पर जो सुरक्षा इंतजाम किए थे, वह अब कहीं भी नजर नहीं आते। न तो शारीरिक दूरी के लिए बने घेरे बने हैं और न ही रस्सी का ही प्रयोग किया जा रहा है। बाजार में भीड़ के एकत्रित होने से संक्रमण का खतरा और भी बढ़ सकता है।

इंसेट–
बाज़ार की भीड़ बयां कर रही लोगो की मनमानी
उरई। नगर पालिका जनप्रतिनिधि के कोरोना पॉजिटव होने के बाद उनके आवास के आसपास का एरिया सील कर दिया गया ताकि संक्रमण को फैलने से रोका जा सके। लेकिन कंटेन्मेंट जोन के पास की सभी दुकानों पर भारी भीड़ जमा हो रही हैं। लेकिन आगामी त्योहार ईद व रक्षाबंधन के चलते बाज़ारो में अच्छी खासी भीड़ देखने को मिल रही हैं। अगर प्रशासन ने इस भीड़ को लेकर कोई सख्त कदम न उठाया तो इन कोरोना संक्रमण की संख्या में बड़ा इजाफा हो सकता हैं।

इंसेट–
दिन भर जाम से जूझते रहे लोग
उरई। उरई शहर के बाजार में भीड़ का आलम कुछ इस कदर था कि शहर के प्रमुख चौराहों शहीद भगत सिंह, घन्टाघर, माहिल तालाब, अम्बेडकर चौराह पर दिन भर लोग जाम से जूझते नज़र आएं। बाजार की सकरी गलियों में दो पहिया वाहनों की आवागमन से जाम जैसे हालात बन गए थे। तेज धूप व उमस भरी गर्मी के बीच लोग बेहाल नज़र आएं।

इंसेट–
ऐसे में कैसे हारेगा कोरोना, जब नियमों का नही होगा पालन
उरई। आखिर ऐसे कैसे हारेगा कोरोना? यह सवाल इसलिए क्योकि कोरोना के लगातार मरीजों की संख्या बढ़ने के बावजूद भी लोग सुधरने का नाम नहीं ले रहे है और नियमों का धड़ल्ले से उल्लंघन कर रहे हैं। केंद्र व राज्य सरकार के द्वारा इस वैश्विक महामारी से लड़ने के लिए सुरक्षा के उपायों का व्यापाक प्रचार-प्रसार किया जा रहा है। वर्तमान में उत्तरप्रदेश में कोरोना के आंकड़े 70 हज़ार व जिले में लगभग 304 के करीब हैं। पुलिस की सख्ती के बाद भी लोग सुधरने का नाम नहीं ले रहे है और लगातार नियमों की धज्जियां उड़ा रहे है। जुर्माने की बात करें महामारी एक्ट के तहत लोगों का चालान किया जा रहा है लेकिन शायद इतना भी लोगों के लिए नाकाफी साबित हो रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

× How can I help you?