पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं का उत्पीड़न बर्दास्त नही: अजय कुमार लल्लू

प्रदेश की जनता जंगलराज से त्रस्त, आवाज़ उठाने वालों पर फ़र्ज़ी मुकदमे लाद रही है योगी सरकार: अजय कुमार लल्लू

ध्वस्त कानून व्यवस्था को छुपाने के लिए कांग्रेस प्रवक्ता अनूप पटेल को साज़िशन फंसाया जा रहा है: अजय कुमार लल्लू

लखनऊ, 29 जुलाई 2020। उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने कहा कि प्रदेश पूरे प्रदेश में जंगलराज है। अपराधियों और पुलिस का गठजोड़ चरम पर है। प्रदेश की जनता अपराधियों और पुलिस के रवैए से त्राहिमाम कर रही है और योगी सरकार हर आवाज़ उठाने वाले की आवाज़ दबाने के लिए उनपर फ़र्ज़ी मुकदमे लाद रही है ।

उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने जारी एक बयान में कहा पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं का उत्पीड़न कतई बर्दाश्त नही किया जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में जंगलराज का यह आलम है कि इंसाफ के लिए जनता आत्मदाह को मजबूर है। अमेठी की दो महिलाएं दबंगो और पुलिस की रवैए से इतना परेशान थीं कि उन्हें आत्मदाह को मजबूर होना पड़ा। यह प्रदेश सरकार के जंगलराज का चरम है कि पीड़ित आत्मदाह को मजबूर हो रहे हैं। योगी आदित्यनाथ की सरकार चुल्लूभर पानी में डूब जाना चाहिए।

उन्होंने आगे कहा कि योगी सरकार अपनी नाकामियां छुपाने के लिए कांग्रेस पार्टी के नेताओं और कार्यकर्ताओं पर फ़र्ज़ी मुकदमे लाद रही है । हमारे प्रवक्ता अनूप पटेल को ऐसे ही फ़र्ज़ी मामले में एफआईआर में नाम लिख कर प्रताड़ित किया जा रहा है। हम कांग्रेस के सिपाही न डरे है, न डरेंगे। तुम्हारे दमन का डट कर मुकाबला करेंगे।

प्रदेश अध्यक्ष श्री अजय कुमार लल्लू ने आगे कहा कि प्रदेश में हर रोज हो रही हत्याएं, बलात्कार, आत्मदाह की खबरों से अखबार पटे पड़े हैं। सरकार के इन कृत्यों के खिलाफ जो आवाज़ उठा रहा है सरकार उनको झूठे मुकदमे लाद रही है।

प्रवक्ता अनूप पटेल को प्रताड़ित करने के लिए उनके घर और होने वाली ससुराल पर छापा मार के उनके परिवार का मानसिक उत्पीड़न पर उतारू है।

श्री अजय कुमार लल्लू ने आगे कहा कि भाजपा को राजनीतिक शिष्टाचार नहीं भूलना चाहिए। कोई भी पीड़ित किसी भी राजनीतिक या सामाजिक संगठनों से मदद मांगता है। उसके दफ्तर जाता है, यह एक सामान्य सी बात है। भाजपा क्या कभी विपक्ष में नहीं रही है। क्या भाजपा कभी विपक्ष में नहीं होगी।

Won’t tolerate oppression of party leaders, workers: Ajay Kumar Lallu

People are fed up with Jungle Raj in UP: Ajay Kumar Lallu

Yogi Government is slapping false cases on those raising people’s voice: Ajay Kumar Lallu

Congress spokesperson Anup Patel is being implicated falsely to hide state’s collapsed law and order: Ajay Kumar Lallu

Lucknow, 29 July 2020: The Uttar Pradesh Congress Committee (UPCC) on Wednesday said there is Jungle Raj across the state. The nexus between police and criminals is at its peak. People are scared and Yogi Government is slapping false cases on those who are raising people’s voice.

In a statement, UPCC chief Ajay Kumar Lallu said that the oppression and suppression of party leaders and workers will not be tolerated under any circumstances. The Jungle Raj in the State has become so pervasive that people are compelled to self-immolate. Two women from Amethi were so much harassed by police and musclemen that they took the extreme step for self-immolation. It is the height of the state’s Jungle Raj that people are being forced to commit self-immolation. The Yogi Government has no moral right to stay in power any longer.

He further said that in order to hide the failure of his government, the Yogi Government is slapping false cases on Congress leaders and workers. Our spokesperson Anup Patel is being harassed by putting his name in an FIR. We are the Congress soldiers. Such acts didn’t scare us in the past nor will in the future. We will face your tyrannical rule with grit and determination.

Mr Lallu said that every day newspapers are flooded with the news of rape and murders. The Government is slapping false cases on those who are raising their voice against these heinous crimes.

The Government is stooping too low to harass our spokesperson Anup Patel by raiding his residence and that of his would-be in-laws.

Mr Lallu said that the BJP should not forget political etiquette. A victim is free to seek help from any quarter or any individual or organisation. It is a routine thing. Has the BJP never been in the opposition? Will the BJP never be in the opposition.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

× How can I help you?