मण्डलायुक्त की अध्यक्षता में विकास प्राधिकरण की बैठक सम्पन्न


मण्डलायुक्त ने बिंदुवार की समीक्षा

उरई (जालौन)(गोविंद सिंह दाऊ):- मण्डलायुक्त झांसी मण्डल झांसी सुभाषचन्द्र शर्मा की अध्यक्षता में उरई विकास प्राधिकरण उरई की 18वीं बोर्ड बैठक कलेक्ट्रेट कक्ष में सम्पन्न हुई। बैठक में सर्वप्रथम उपस्थित अधिकारियों द्वारा परिचय कराया गया। इसके उपरान्त मण्डलायुक्त द्वारा 23 जुलाई को आयोजित बोर्ड बैठक की अनुपालन आख्या जिसमें प्राधिकरण की 15वीं बोर्ड बैठक के बिन्दुवार समीक्षा की गयी जिसमें पारित प्रस्ताव के अनुसार प्राधिकरण कार्यालय भवन में विधुत व्यवस्था हेतु सौर ऊर्जा स्थापित किये जाने हेतु लगभग 25 लाख व्यय अनुमानित किया गया जिसके सर्वसहमति से नेडा से कराये जाने का अनुमोदन प्रदान किया गया एवं प्राधिकरण कार्यालय/कैम्पस में पार्किंग एवं अन्य विकास कार्य हेतु 05 लाख रुपये का अनुमोदन प्रदान किया गया जिसका अनुपालन कर लिया गया हैं। शहर में चैराहों का विकास कार्य सुदृणीकरण का कार्य हेतु लगभग 10 लाख रुपये प्रति चैराहा कुल 70 लाख देय के संबंध में सर्वसहमति से निर्णय लेते हुये अनुमोदन किया गया जिसका अनुपालन कर लिया गया हैं। जन उपयोगी कार्य के अन्तर्गत शहर के विभिन्न स्थलों पर यात्री प्रतीक्षालयों के निर्माण कार्य हेतु 05 स्थल का चयन अधिशाषी अधिकारी नगर पालिका उरई द्वारा करते हुये प्राधिकरण को स्थल उपलब्ध कराया जायेगा जिस पर प्राधिकरण द्वारा यह कार्य 30 लाख रुपये के अन्तर्गत कराये जाने का अनुमोदन प्रदान किया गया जिसका अनुपालन कर लिया गया हैं। शहर में बच्चों के खेलने के लिये एवं बुजर्ग आदि घूमने एवं व्यायाम हेतु नगर क्षेत्र के अन्तर्गत पार्क विकसित किये जाने हेतु लगभग 01 करोड़ रुपये के संबंध में सर्वसहमति से निर्णय लेते हुये प्रश्नगति कार्य सम्पादित कराये जाने का अनुमोदन प्रदान किया गया था जिस पर मण्डलायुक्त ने कहा कि प्रस्ताव कैसे प्राप्त हुआ इसकी जानकारी उपलब्ध कराये तथा यह भी कहा कि कोई कार्य करे उसकी उपयोगिता पहले देखकर उसी के अनुसार कार्य किये जाये। उन्होने इस प्रकार प्रत्येक बिन्दुओं को पढ़कर उसके संबंध में शासन के नियमानुसार कार्यवाही किये जाने की बात की। उन्होने इस प्रकार प्राधिकरण की 16वीं, 17वीं बैठक ऐजण्डा बिन्दुवार समीक्षा की। उन्होने 18वीं बोर्ड बैठक के ऐजण्डा बिन्दु के अनुसार समीक्षा की। समीक्षा के दौरान उन्होने सभी बिन्दुओं पर चर्चा की। चर्चा के दौरान उन्होने शमन योजना 2020 के संबंध में बताया कि नगरीय क्षेत्र में हो चुके अवैध निर्माण में वृहद निजी पूंजी निवेश हो चुका है, ऐसे निर्माणों का न तो ध्वस्तीकरण व्यवहारिक है और न ही मानवीय दृष्टिकोण से वांछनीय हैं। शमन योजना 2020 के अन्तर्गत जनता को अवैध निर्माण के शमन हेतु एक सीमित समय अवधि का अवसर प्रदान करते हुये मानसिक परेशानी से मुक्ति दिलाने का प्रयास किया जाएगा। इस योजना को लागू किए जाने के फलस्वरूप विकास प्राधिकरणों तथा अवैध निर्माणकर्ताओं के मध्य चल रहे विवादों एवं मुकदमेबाजी का समाधान हो सकेगा। बैठक में उन्होने कहा कि जो भी कार्य किये जाये वह शासन के नियम के अन्तर्गत किये जाये। उन्होने उपस्थित विकास प्राधिकरण के अधिकारियों से कहा कि विकास प्राधिकरण की आय बढ़ाने हेतु हर क्षेत्र में काम करना चाहिये जिससे अधिक से अधिक लाभ अर्जित किये जा सके। इसके उपरान्त उन्होने विकास प्राधिकरण के वित्तीय वर्ष 2020-21 आय-व्यय का विवरण तथा अन्य बिन्दुओं पर चर्चा की। उन्होने विशेष अनुमति स्वीकृति हेतु भवन मानचित्र पत्रावली जो भगवान सिंह एजुकेशनल ट्रस्ट सचिव/प्रबन्धक श्रीमती सुशीला देवी पत्नी स्व. भगवान सिंह निवासी मोहल्ला तिलक नगर कस्बा परगना कोंच जिला जालौन की उपस्थित सभी नामित सदस्यों के सहमति से पत्रावली बोर्ड में पास कर दिया गया।
इस अवसर पर जिलाधिकारी डाॅ. मन्नान अख्तर, नगर मजिस्ट्रेट हरिशंकर लाल शुक्ला, संयुक्त नियोजक झांसी प्रतिनिधि मुख्य नगर एवं ग्राम नियोजन विभाग लखनऊ एन. के. पुष्करणा, वरिष्ठ कोषाधिकारी/मुख्य लेखाधिकारी उरई विकास प्राधिकरण आशुतोष चतुर्वेदी, संयुक्त निदेशक कोषागार झांसी प्रभारी महेश पाण्डेय, अधिशाषी अधिकारी नगर पालिका उरई संजय कुमार, बृजभुषण सिंह मून्नु नामित सदस्य, अनिल यादव नामित सदस्य, बृजराज सिंह विशेष आमंत्रित मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

× How can I help you?