कोरोना काल में एतिहासिक कजरी मेला में लगा ग्रहण



उरई (जालौन)(गोविंद सिंह दाऊ):- जनपद मुख्यालय उरई में रक्षाबंधन के दूसरे दिन शहर के माहिल तालाब पर वर्षों से कजरी मेला लगता चला आ रहा है जो भाईचारे की मिशाल कायम रखता है। इस कजरी मेले में जनप्रतिनिधि, समाजसेवी, गणमान्य नागरिक जमा होकर एक-दूसरे को कजली देकर गले मिलते आ रहे है। इस वर्ष रक्षाबंधन के दूसरे दिन पड़ने वाले कजरी मेला कोरोना काल की चपेट में आ जाने से मेले पर रोक लगा दी गयी है।
वर्षों पूर्व से रक्षाबंधन पर्व के बाद ठीक दूसरे दिन लगने वाले कजरी मेला का बुंदेलखंड में अपना महत्व हैं। लेकिन हर वर्ष की तरह इस बार आयोजित होने वाले कजरी मेले पर जिला प्रशासन ने रोक लगाई है। बुंदेलखंड में कजरी महोत्सव का अपना विशेष महत्व है जिसको लेकर कई विशेष महत्व है जिसको लेकर कुछ खास तैयारियां भी की जाती है। लेकिन कोरोना महामारी के चलते इस बार इस पर्व के आयोजन पर जिला प्रशासन ने आधिकारिक रूप से रोक लगा दी है।

× How can I help you?