ग्राम प्रधान दमरास की जांच करवाये जाने की मांग उठाई ग्रामीणों ने


कलेक्ट्रेट पहुंच कर प्रशासन को सौपा ज्ञापन

उरई (जालौन)(गोविंद सिंह दाऊ):-। कालपी तहसील क्षेत्र के विकास खण्ड महेबा की ग्राम पंचायत दमरास के दर्जन भर से अधिक ग्रामीणों ने आज कलेक्ट्रेट पहुंच कर ग्राम प्रधान द्वारा करवाये गये फर्जी विकास कार्यों की जांच की मांग को लेकर प्रशासन को मांगपत्र सौपा।
महेबा विकास खण्ड की ग्राम पंचायत दमरास के ग्रामीण पूरन, गुड्डू, कल्लू, ओमप्रकाश, मुनेश वर्मा, शनि सिंह, गजेन्द्र सिंह, देवेश कुमार, प्रवेश, पंकज, सुरेंद्र कुमार, कुलदीप कुमार, रामशरण पाल, सजीत आदि ग्रामीणों ने कलेक्ट्रेट पहुंच कर ने प्रशासन को दिये ज्ञापन में बताया है कि ग्राम प्रधान परशुराम दोहरे ने प्रार्थी मुनेश पुत्र छोटे लाल से मनरेगा के तहत काम करवाया उस काम को दिन में मजदूरों से और रात में ट्रैक्टरों और जेसीबी मशीन से करवा है तथा गांव में फर्जी जाँबकार्ड से पैसा निकलवाता है जब कि गांव में पिछले पांच साल से किसी का भी जाँबकार्ड नहीं बना है। ग्रामीणों का आरोप है कि प्रधान ने खड़ंजा निकलवा कर उस पर सीसी करवा दी और जितना ईटा निकला वह प्रधान ने अपने मकान में लगवा रखा है तथा कुछ काम करने वाले मजदूरों के पैसे तक नहीं दिये है। ग्रामीणों का आरोप है कि जिस प्रधान के पास कुछ भी नहीं था आज वर्तमान में प्रधान ने बीस बीघा जमीन, बोलेरो, ट्रैक्टर के साथ ही उरई में मकान है तथा भ्रष्टाचार में पैदा किया गया पैसा परिवार के सभी सदस्यों के नाम बैंक खातों में है। जितना विकास कार्य गांव में करवाया जाना दिखाया जा रहा है वह सब फर्जी है। ग्रामीणों का कहना है कि प्रधान द्वारा किये जा रहे भ्रष्टाचार की शिकायत विकास अधिकारी से की जाती है तो उनके द्वारा कोई कार्यवाही प्रधान के खिलाफ नहीं की जाती है इतना ही नहीं ग्राम प्रधान ने गांव के अंदर कोई भी नया शौचालय तक नहीं बनवाया है। ग्रामीणों ने प्रधान के खिलाफ जांच करवाकर कार्यवाही की मांग जिला प्रशासन से की है।

× How can I help you?