उरई (जालौन)(रिपोर्ट-गोविंद सिंह दाऊ):-बुंदेलखंड चौरसिया महासभा के प्रदेश अध्यक्ष मुन्ना लाल चौरसिया के नेतृत्व में चौरसिया समाज के डा. श्रद्धा चौरसिया, अनीता चौरसिया, संतोष चौरसिया, रश्मि चौरसिया, राजेंद्र चौरसिया, मनमोहन चौरसिया, देवेश कुमार चौरसिया, गंगाराम चौरसिया आदि समाज के लोगों ने कलेक्ट्रेट पहुंच कर प्रदेश के राज्यपाल को सम्बोधित पांच सूत्रीय मांगपत्र जिला प्रशासन को भेंट किया। जिसमें लिखा है कि बुंदेलखंड चौरसिया महासभा, चौरसिया समाज उ. प्र. के 13 ब्यक्तियों की एक वर्ष के भीतर निर्मम हत्याओं की न्यायिक जांच करवाई जाये, थाना तरयासुजान जिला कुशीनगर में शीला चौरसिया के साथ गैंगरेप का मुकदमा दर्ज होने के बावजूद आज तक कोई भी गिरफ्तारी नहीं हुई जिन्हें तत्काल गिरफ्तार किया जाये तथा उ. प्र. में चौरसिया समाज के लोगों की जमीन पर किये गये अवैध कब्जों को मुक्त कराया जाये, नावालिग बच्चियों के साथ हुए बलात्कार के दोषियों को गिरफ्तार किया जाये और उन्हें आर्थिक सहयोग किया जाये। चौरसिया समाज के लोगों ने मांग की है कि पान की खेती को कृषि का दर्जा दिया जाये तथा पान ब्यवसाय करने वाले समाज के ब्यक्तियों को होने वाले नुकसान का मुआवजा दिलाया जाना सुनिश्चित कराया जाये। चौरसिया महासभा ने राज्यपाल को भेंजे ज्ञापन में मांगों को पूरा करने की मांग उठाई है अन्यथा की स्थिति आंदोलन करने को बाध्य होना पड़ सकता है।