गल्ला ब्यापार संघ अध्यक्ष ने कहा 21 से 26 तक बंद रहेगी गल्ला मण्डी

उरई (जालौन)(रिपोर्ट-गोविंद सिंह दाऊ):- भाजपा सरकार ने अगर ब्यापारियों का शोषण किया तो आगामी चुनाव भाजपा को ब्यापारी सबक सिखाने के लिए तैयार रहेगा। उक्त बात उरई गल्ला ब्यापार सेवा समिति के अध्यक्ष प्रदीप माहेश्वरी ने मण्डी स्थित कार्यालय पर आयोजित पत्रकार वार्ता दौरान कही।
उन्होंने कहा कि शयामबिहारी मिश्रा के आवाहन पर 21 सितम्बर से 26 सितंबर तक प्रदेश की समस्त मण्डियां बंद रहेगी उनका समर्थन करते हुए उरई की भी गल्ला मण्डी बंद रखने का निणर्य लिया गया है। एक देश में एक कानून के तहत मण्डियों के मण्डी शुल्क में छूट दी गयी है और मण्डियों के अंदर 2,1,2 प्रतिशत मण्डी शुल्क लिया जायेगा। उन्होंने कहा कि मण्डियां किसानों के हितों के लिए बनाई गयी थी न कि सरकार की कमाई का जरिया अगर मण्डियों के अंदर शुल्क लिया जाता है तो बाहर भी लगना चाहिए अगर छूट है तो दोनों जगह समान होना चाहिए। गल्ला मण्डी अध्यक्ष प्रदीप माहेश्वरी ने कहा कि भारत में 78 प्रतिशत कृषक है जबकि अमेरिका में 12 प्रतिशत है हिन्दुस्तान में किसानों के पास 2 से 5 एकड़ जमीन होती है जबकि अमेरिका में 1000 एकड़ से 9000 एकड़ तक कृषि भूमि होती है।भारत में एक ट्रैक्टर में 5 से 10 किसान अपनी उपज लाता है जबकि अमेरिका में खेतों के पास तक रेलवे लाइन होती है। उन्होंने बताया कि भारत में जरूरत के हिसाब से 01 बोरे से लेकर 20 बोरे तक माल लाता है जो कि बाहर अगर खरीद होती है तो उसको या तो दुत्कारा जायेगा अथवा कम कीमत दी जायेगी। उन्होंने बताया कि मण्डियां समाप्त होने पर नीलामी बंद हो जायेगी तथा अपनी-अपनी मर्जी का भाव रहेगा जिससे किसानों को भाव का पता तक नहीं चलेगा। उन्होंने कहा कि मण्डी के अंदर 50 से 100 ब्यापारी सामूहिक वोली लगाते है जिनमें स्परधा होती है तथा बाहर भाव का कोई धनी धोरी नहीं होगा। उन्होंने कहा कि सरकार की इस नीति से प्रदेश का करोड़ों ब्यापारी और मजदूर तबाही की कगार पर पहुंच जायेगा। उन्होंने अंत में कहा कि अगर भाजपा सरकार ने ब्यापारियों का शोषण किया तो आगामी चुनाव में भाजपा को ब्यापारी सबक सिखाने से नहीं चूकेगा। इस मौके पर प्रमुख रूप से अरविंद पटैरिया, महावीर गुप्ता, बृजकिशोर गुप्ता, अनूप लोखटिया, देवीदीन लम्बरदार, मनोज कालपी, उमाशंकर पाठक, केदार भरद्वाज, उदय टिमरो, रविन्द्र करमेर सहित अन्य ब्यापारी मौजूद रहे।