पोषण माह के रूप में मनाया जायेगा सितंबर माह-डीएम



उरई (जालौन)(रिपोर्ट-गोविंद सिंह दाऊ):-जिलाधिकारी डाॅ. मन्नान अख्तर ने अवगत कराया है कि महानिदेशक, राज्य पोषण मिश माह सितम्बर, 2020 एवं महिला एवं बाल विकास मंत्रालय, भारत सरकार के निर्देशानुसार पोषण माह के रूप में मनाये जाने का निर्णय लिया गया हैं। पोषण माह के प्रभावी क्रियान्वयन हेतु जन आन्दोलन एवं सामुदायिक प्रोत्साहन आवश्यक हैं। पोषण माह सितम्बर 2020 में कुपोषित/अतिकुपोषित बच्चों को कुपोषण से मुक्त कराये जाने हेतु वजन दिवस का आयोजन किया जाना निर्धारित हैं। जिसमें स्वास्थ्य विभाग, बेसिक शिक्षा एवं पंचायतीराज एवं बाल विकास सेवा एवं पुष्टाहार विभाग की सहभागिता अनिवार्य करते हुये प्रत्येक आंगनबाड़ी केन्द्र पर वजन दिवस का आयोजन किया जायेगा जिसमें प्रत्येक आंगनबाड़ी केन्द्र पर 0 से 05 वर्ष तक के लगभग 132063 बच्चों का वजन किया जाना है साथ ही सभी बच्चों के कुपोषण के स्तर का निर्धारण के साथ ही सैम एवं मैम बच्चों का भी चिन्हांकन भी किया जाना हैं। वजन दिवस को सफल बनाने के लिये आंगनवाड़ी केन्द्र स्तर पर पर्यवेक्षक के रूप में बेसिक शिक्षा विभाग के अध्यापकों, न्याय पंचायत स्तर पर बनाये गये सेक्टर में जिला/ब्लाॅक स्तरीय अधिकारियों को सेक्टर प्रभावी एवं ब्लाॅक स्तर पर जोनल अधिकारी नामित किये गये हैं। वजन दिवस का निर्धारण परियोजनावार/ब्लाॅकवार निम्न प्रकार किया जाता हैं। उन्होने बताया कि विकास खण्ड/परियोजना के अनुसार दिनांक 15 सितंबर को उरई शहर एवं डकोर, 19 को कोंच एवं जालौन, 22 को कदौरा एवं महेवा, 26 सितंबर को कुठौन्द एवं माधौगढ़, 28 को नदीगांव एवं रामपुरा में आयोजन किया जाना हैं। उन्होने बताया कि वजन दिवस के दौरान प्रभावी पर्यवेक्षण में ग्राम सभा/वार्ड/सेक्टर/जोन पर्यवेक्षक की उपस्थिति में पूर्व में लक्षित तथा वर्तमान के अतिकुपोषित बच्चों का वजन अपने समक्ष करवाया जाना। जिन क्षेत्रों में वजन लेने की प्रक्रिया पूर्ण हो गई हो वहां पर कुछ अतिकुपोषित बच्चों का रैण्डम आधार पर वजन लेते हुये कार्य की गुणवत्ता सुनिश्चित किया जाना। सूची के अनुसार समस्त बच्चे केन्द्र पर लाये जा रहे हैं अथवा नहीं का प्रभावी निरीक्षण व अनुश्रवण किया जाना। वजन मशीन सही से काम कर रही या नहीं और वजन करने के लिये सही प्रक्रिया का प्रयोग हो रहा है कि नही। वजन मशीन समतल फर्श पर रखी है कि नहीं पर गौर करना ताकि सही वजन मापा जा सके। वजन तालिका को प्रयोग में लाते हुये आंगनवाड़ी कार्यकत्री द्वारा वजन का अंकन किया जा रहा है अथवा नहीं पर ध्यान देना हैं। वजन दिवस के दिन प्रातः 09ः00 बजे से आंगनवाड़ी केन्द्र पर लाये गये बच्चों का वजन लेना सुनिश्चित किया जायेगा। वजन दिवस में किन्ही अपरिहार्य कारणवश कुछ बच्चें वजन करने से छूट गये हों तो उन्हें आच्छादित करने हेतु अगले वीएचएनडी दिवस में वजन कर लिया जाये। यह सुनिश्चित किया जायेगा कि कोई बच्चा छूट न पायें। क्षेत्रीय मुख्य सेविका प्रारूप 02 पर सभी आंगनवाड़ी केन्द्रों की सूचना संकलित कर बाल विकास परियोजना अधिकारी को प्राप्त करायेगे, बाल विकास परियोजना अधिकारी प्रारूप 03 पर सूचना संकलित कर जिला कार्यक्रम अधिकारी को प्रेषित करेगे जिला कार्यक्रम अधिकारी, परियोजना वार सूचना संकलित कर मुख्य विकास अधिकारी को प्रेषित करेगे। सभी नामित सेक्टर प्रभारी पर्यवेक्षक वजन दिवस के अगले दिन निर्धारित प्रारूप पर 05 पर ब्लाॅक स्तर पर नामित जोनल प्रभारी को रिपोर्ट उपलब्ध करायेगे, जोनल प्रभारी प्रारूप 06 पर रिपोर्ट संकलित कर जिला कार्यक्रम कार्यालय, उरई में उपलब्ध करायेगे। स्वास्थ्य विभाग वजन मशीन की उपलब्धता एवं पंचायतीराज विभाग/नगर पालिका परिषद सफाई आदि व्यवस्था सुनिश्चित करेगा। वजन दिवस को दृष्टिगत रखते हुये किसी भी समस्या के लिये जिला कार्यक्रम कार्यालय में कन्ट्रोल रूम स्थापित किया गया है। कोविड-19 के संबंध में समय-समय पर जारी निर्देशों एवं सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना अति आवश्यक हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

× How can I help you?