उरई। गणतंत्र दिवस पर जिलाधिकारी ने 2 अधिवक्ताओं को उनके अनूठे सेवा कार्य के लिये सम्मानित किया ।
गणतंत्र दिवस पर कलेक्टेªट में झण्डारोहण के बाद जिलाधिकारी डा0 मन्नान अख्तर ने विशिष्ट सेवा करने वाले लोगो को सम्मानित करके नई परम्परा की नींव डाली । इस क्रम में जिलाधिकारी ने अपर जिलाधिकारी प्रमिल कुमार सिंह के साथ दो अधिवक्ताओं को सम्मानित किया जिनकी निःस्वार्थ सेवा के बारे में सुनकर सारे लोग अभिभूत हो गये ।
इन अधिवक्ताओं में शामिल है- जयप्रकाश सिंह जादौन और पवन कुमार मिश्रा । जानिये ये अधिवक्ता निःस्वार्थ सेवा के मामले में क्या करते है। हर रोज भोर में कलेक्टेªट आकर दोनो अधिवक्ता बार परिसर को बुहारते है और यहां लगे पेडों का संरक्षण करते है। इन्होने पेडो पर तिरंगा रगवा दिया है जिससे बार परिसर की शोभा बढ गयी है।
यहां लगा पाखर का एक पुराना पेड किसी के द्वारा बैटरी का तेजाब उडेल देने से सूख गया था। किसी को उम्मीद नहीं थी कि यह पेड फिर हरा हो सकता है। दोनो अधिवक्ताओं ने पेड को जिलाने के लिये बहुत लगन से इसकी सेवा की । इसे कई दिनों तक सींचा । कृषि रक्षा इकाई के स्टाफ को बुलवाकर इसमें दवा डलवाई। अन्त में इनकी मेहनत रंग लायी, पेड फिर हरे पत्तो से लद गया और उसमें कोंपले फूटने लगी ।
जिलाधिकारी ने दोनो अधिवक्ताओं को शाॅल उढाकर और प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया । उन्हें समाज का रोल माॅडल बताया जिनका अनुकरण करके हर किसी को निःस्वार्थ सेवा के लिये इसी तरह एक काम को चुनकर जीवन की सार्थकता कायम करनी चाहिये।





Source link