जनपद में सपा का मुखिया सुस्त होने से कार्यकर्ता दिशा बिहीन

0

सभी राजनैतिक दल बनाने में जुटे पंचायत चुनाव की रणनीति
० सपा में नहीं दिख रहा चुनाव की तैयारियों जैसा माहौल

उरई (जालौन)(गोविन्द सिंह दाऊ) जनपद जालौन में सपा मुखिया के अचानक सुस्त पड़ जाने के कारण समाजवादी पार्टी के पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता दिशा बिहीन होते नजर आ रहे है वहीं ऐसे समय में जब जिला पंचायत के चुनाव नजदीक होने की बजह से सभी राजनैतिक दलों के नेता बैठक कर चुनावी रणनीति बनाने में जुटे हुए है तो वहीं सपा का खेमा खामोशी धारण किये दिखाई दे रहा है। यहीं कारण है कि सपा के खेमे में चुनावी जैसा माहौल नजर नहीं देखा जा रहा है और न ही चुनाव लड़ने वाले प्रत्याशियों को खोजा जा रहा है। सूत्रों की मानें तो प्रदेशीय नेतृत्व द्वारा भाजपा सरकार के विरोध में आयोजित होने वाले कार्यक्रमों में जनपद के सपा मुखिया द्वारा भाग न लेने से सपा के कुछ बफादार नेता अपने कार्यकर्ताओं को साथ लेकर सपा प्रदेश नेतृत्व के आदेशों का पालन करते हुए भाजपा सरकार के विरोध में कार्यक्रम जरूर करते हुए देखे जा सकते है। जनपद के सपा मुखिया के सुस्त रहने के कारण जनपद में सपा कार्यकर्ताओं में भी निराशा की भावना देखने को मिलने लगी है। सूत्रों से छनछन कर मिली जानकारी के अनुसार जनपद जालौन की गतिविधियों को देखते हुए सपा प्रदेश नेतृत्व ने भी जनपद के मुखिया को बदलने का मन बना लिया है जिससे ऐसा अनुमान लगाया जाने लगा है कि पंचायत चुनाव में सपा का परचम लहराया जा सके और अधिक से अधिक जिला पंचायत की सीटों पर कब्जा जमाया जा सके इस लिए जनपद जालौन में सपा जिलाध्यक्ष की कमान किसी तेजतर्रार युवा को सौपी जा सकती है। जिसका फैसला सपा प्रदेश हाईकमान जल्द ही कर सकता है।सूत्रों की मानें तो नये सपा जिलाध्यक्ष के रूप में युवा एवं तेजतर्रार तथा ऐर जिला पंचायत क्षेत्र से सदस्य रहे सुरेंद्र यादव मौखरी का नाम प्रदेश नेतृत्व में नम्बर-01 पर चल रहा है जबकि दूसरे नम्बर पर पूर्व जिला अध्यक्ष सुरेंद्र यादव बजरिया का चर्चा में सुनाई दे रहा है।


इंसेट–
कभी भी बदला जा सकता जिले का नेतृत्व
उरई। जनपद जालौन का सपा नेतृत्व की राजनैतिक गतिविधियां सुस्त होने की बजह से सपा पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं निराशा देखी जाने लगी है। प्रदेश नेतृत्व के निर्देश पर चलाये जाने वाले सरकार विरोधी आंदोलनों को बगैर सपा मुखिया के ही बफादार पार्टी के लोग शामिल होकर सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव एवं प्रदेश अध्यक्ष के निर्देशों का पालन करते हुए दिखाई देते है। जिसकी भनक भी शायद सपा प्रदेश को मिल चुकी है जिससे अब यह लगने लगा है कि जल्द ही जनपद जालौन के सपा नेतृत्व में बदलाव होगा और नये किसी युवा नेता को सपा नेतृत्व की कमान सौपी जा सकती है क्योंकि जिला पंचायत चुनाव को देखते हुए प्रदेश नेतृत्व जल्द फैसला ले सकता है।