Uttarakhand Glacier Collapse: उत्तराखंड में ग्लेशियर फटने से भारी तबाही हुई है. दो NTPC प्रोजेक्ट को नुकसान है. इस घटना में डेढ़ सौ लोगों के लापता होने की आशंका है और अबतक 10 शव बरामद किए गए हैं. इस बीच रेस्क्यू में जुटे ITBP के जवानों ने तपोवन की टनल में फंसे लोगों को निकाला है. मौत से जंग जीतकर वापस आए लोग इस दौरान काफी खुश नजर आए. जैसे ही लोगों को टनल से बाहर निकाल गया उनके चेहरे पर मुस्कान दिखने लगी.

बता दें कि तपोवन के टनल में 25 से ज्यादा मजदूर फंसे हैं. लोगों को निकालने का काम जारी है. जेसीबी मशीनों से मलबा साफ किया जा रहा है. चमोली हादसे की तस्वीरें साफ बता रही हैं कि हादसा कितना भयावह है.

इस बीच भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) का कहना है कि उत्तराखंड के चमोली, तपोवन और जोशीमठ में सात और आठ फरवरी को प्रतिकूल मौसम की कोई आशंका नहीं है. ऐसे में यह हिमखंड टूटने से प्रभावित हुए क्षेत्रों के लिए यह काफी राहत की बात है. आईएमडी के अतिरिक्त महानिदेशक आनंद शर्मा ने कहा कि इन दोनों दिनों में चमोली, तपोवन और जोशीमठ में शुष्क मौसम रहने का अनुमान है.

उत्तराखंड के लिए विशेष रूप से जारी किए गए मौसम परामर्श में कहा गया कि सात और आठ फरवरी को बारिश और बर्फबारी की कोई आशंका नहीं है. परामर्श के मुताबिक, चमोली जिले के उत्तरी हिस्से में नौ और 10 फरवरी को हल्की बारिश या बर्फबारी का पूर्वानुमान है.

ये भी पढ़ें-

‘देवभूमि’ उत्तराखंड में इससे पहले भी दिख चुका है तबाही का मंजर, जानें कब-कब आईं प्राकृतिक आपदाएं

उत्तराखंड में भारी तबाही, NTPC साइट से तीन शव बरामद, अब तक 10 लोगों की मौत





Source link