रेटिंग एजेंसी फिच ने आम बजट पर अपनी टिप्पणी में कहा कि निकट अवधि में भारत का राजकोषीय घाटा अनुमान से अधिक है और मध्यम अवधि में संगतन की गति की उम्मीद से धीमी है। सोमवार को पेश किए गए आम बजट 2021-22 में कहा गया कि इस समय राजकोषीय घाटे जीडीपी के 9.5 प्रतिशत से अधिक है, जबकि उसका लक्ष्य इसे 3.5 प्रतिशत पर रखने का था।

अगले वित्त वर्ष के लिए इतना अनुमान है
अगले वित्त वर्ष 2021-22 के लिए राजकोषीय विभाग का लक्ष्य 6.8 प्रति है। फिच रेटिंग्स-पेसो-पेसिफिक सवरेन ग्रुप के निदेशक जेरेमी जुक ने कहा कि, ‘भारत में केंद्र सरकार द्वारा एक फरवरी को पेश किए गए बजट में राजकोषीय उपक्रम का लक्ष्य अधिक है, मध्यम अवधि में समेकन की उम्मीद से अधिक गिरावट है।’

जूक ने आगे कहा कि, ‘हमने संभावनाओं और भारी सार्वजनिक ऋण की चुनौतियों को बढ़ाया है और महामारी के प्रकोप के मद्देनजर जून 2020 में नकारात्मक दृष्टिकोण के साथ भारत की रेटिंग को बीबीबी- पर रखा था।’ वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 2021-22 के बजट में बड़े पैमाने पर खर्च का ऐलान किया, जिसका एक बड़ा हिस्सा उर्ड के जरिए पूरा किया जाएगा।

सरकार ने कुल 34,83,236 करोड़ का बजट पेश किया
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 2021-22 के लिए कुल 34,83,236 करोड़ रुपये के व्यय का बजट पेश किया। यह चालू वित्त वर्ष के संशोधित अनुमान 34,50,305 करोड़ रुपये से थोड़ा ही अधिक है। इसमें पूंजी व्यय 5,54,236 करोड़ रुपये है, जो 2020-21 के संशोधित अनुमान 4,39,163 करोड़ रुपये से कहीं अधिक है। बजट दस्तावेज़ के अनुसार राजस्व खाते पर व्यय 29,29,000 करोड़ रुपये अनुमानित है, जबकि 2020-21 के संशोधित अनुमान के अनुसार इस मद पर खर्च 30,111,42 करोड़ रुपये दर्शाया गया है।

राजस्व खाते से ब्याज भुगतान अगले वित्त वर्ष में 8,09,701 करोड़ रुपये रहने का अनुमान है, जो चालू वित्त वर्ष के संशोधित अनुमान के अनुसार 6,92,900 करोड़ रुपये है। राजस्व प्राप्ति को देखा जाए तो नए वित्त वर्ष में इसके 17,88,424 करोड़ रुपये रहने का अनुमान है, जो चालू वित्त वर्ष के संशोधित अनुमान में 15,55,153 करोड़ रुपये है। इसमें 2021-21 केंद्र में शुद्ध रूप से कर राजस्व प्राप्ति 15,45,396 करोड़ रुपये रहने का अनुमान है। वहाँ से इतर स्रोतों से प्राप्त राजस्व 2,43,028 करोड़ रुपये रहने का अनुमान है। पूंजी प्राप्ति एक अप्रैल से शुरू वित्त वर्ष में 16,94,812 करोड़ रुपये रहने का अनुमान है, जो चालू वित्त वर्ष के संशोधित अनुमान के अनुसार 18,95,152 करोड़ रुपये है।





Source link