नई दिल्ली: कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने राजस्थान के नागौर में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि अगर संसद में खड़े होकर मैंने गलती की है, तो वो गलती मैं बार-बार करूंगा. उन्होंने कहा कि हमारे 200 किसान शहीद हो गए, लेकिन संसद में 2 मिनट के लिए सांसद मौन में खड़े नहीं हुए. तो मैंने सोचा कि मैं 2 मिनट के लिए अपने भाषण के बाद मौन में खड़ा हो जाउं, लेकिन न कोई मंत्री खड़ा हुआ और न ही कोई बीजेपी का सांसद. इन्होंने दुनिया के सामने किसानों का अपमान किया.

राहुल गांधी जनसभा के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भी हमलावर दिखे. उन्होंने कहा कि मोदी संसद भवन में किसानों को आंदोलनजीवी कहते हैं. उनका अपमान करते हैं. उनका मजाक उड़ाते हैं. बता दें कि बजट सत्र पर चर्चा के दौरान राहुल गांधी ने किसान आंदोलन के दौरान जान गंवाने वाले किसानों को श्रद्धांजलि देने के लिए सदन में खड़े होकर 2 मिनट का मौन रखा था, जिसका बीजेपी ने विरोध किया है.

बीजेपी ने लगाया है सदन के अपमान का आरोप
शुक्रवार को बीजेपी सांसद संजय जायसवाल ने लोकसभा में राहुल गांधी के खिलाफ विशेषाधिकार प्रस्ताव का नोटिस दिया. उन्होंने कहा कि हमने पहली बार देखा कि कोई सांसद सभी को खड़े होने और मौन रखने का आदेश दे रहा है. कुछ सांसदों ने ये किया. लोकसभा को इस पर कार्रवाई करनी चाहिए. उन्होंने आरोप लगाया कि खड़े होने वाले सांसदों ने सदन का अपमान किया है.

राहुल गांधी ने पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए कहा, “कोरोना के समय मज़दूरों ने हाथ जोड़कर नरेंद्र मोदी से रेल, बस की टिकट मांगी. मतलब 100-200 रुपये मांगे. नरेंद्र मोदी कहते हैं कि मैं एक रुपया नहीं दूंगा, मगर उसी समय नरेंद्र मोदी ने 1,50,000 करोड़ रुपये का हिन्दुस्तान के सबसे अमीर लोगों का कर्जा माफ किया.” उन्होंने कहा कि सिर्फ 2-3 उद्योगपतियों के लिए रास्ता साफ किया जा रहा है.

शाहीन बाग फैसले पर दोबारा विचार से SC का इनकार, कहा- विरोध के नाम पर कहीं भी नहीं बैठा जा सकता 



Source link