उरई (जालौन)(गोविंद सिंह दाऊ):-। न्यायाधीश अशोक कुमार सिंह के निर्देशन में तहसील उरई के अन्तर्गत मुख्यालय स्थित वृद्धाआश्रम राठ रोड उरई में विधिक साक्षरता शिविर का आयोजन द्वारा कराया गया। कोरोना गाइड-लाइन के अन्तर्गत सम्पन्न इस शिविर की अध्यक्षता करते हुये जिला विधिक सेवा प्राधिकरण प्रभारी सचिव/सिविल जज (सी.डि.) विवेक कुमार सिंह ने वरिष्ठ नागरिकों के अधिकार के बारे में विस्तृत जानकारियां देते हुये बताया कि जो व्यक्ति 60 वर्ष से ऊपर की आयु के हैं और उनके बच्चे अथवा निकट रक्त सम्बन्धी जिनके वह संरक्षण में हैं, से भरण-पोषण प्राप्त करने के अधिकारी हैं। चाहे वह उनके पुत्र या पुत्री हो अथवा नाते-रिश्तेदार हों। यदि वृद्धजनों के भरण-पोषण करने से उनके पाल्य अथवा वारिसान इन्कार करते है तो उनके विरूद्ध जिलाधिकारी महोदय के यहां प्रार्थना-पत्र वृद्धजन की ओर से दिया जा सकता है। वरिष्ठ नागरिक भरण पोषण अधिनियम के दायरे में लाया गया है और उन्होंने कहा कि प्रत्येक व्यक्ति का परम कर्तव्य है कि वह अपने माता.पिता अथवा अपने घर के अन्य बुजुर्गों या जिनके साथ वह रह रहे हैं, की सम्पूर्ण देख-भाल जरूर करें। यह ईश्वर की सेवा के समान है और सुखी व संतोशी जीवन का मूल मंत्र है। कार्यक्रम के समापन पर उन्होंने जनसामान्य को धूम्रपान न करने व दूसरों को न करने देने की शपथ दिलायी।
जिला तम्बाकू नियंत्रण कार्यक्रम की जिला परामर्शदाता श्रीमती तृप्ति यादव ने तम्बाकू उत्पाद व धूम्रपान निशेध अधि.-2003 की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि तम्बाकू उत्पादों का प्रचार.प्रसार करना अथवा नावालिग बच्चों से इसकी बिक्री करवाना कानूनन अपराध है। ऐसा करने वालो को जुर्माना एवं जेल की सजा दी जा सकती है। उन्होंने बताया कि तम्बाकू उत्पादों से अनेकानेक घातक बीमारियां हो जाती है। तम्बाकू में पाये जाने वाले घातक रसायन से कैंसर जैसा असाध्य रोग बहुतायत में हो रहा है। इससे मरने वालो की तादाद बहुत तेजी से बढ़ रही है जो अत्याधिक चिन्ता का विशय है। तम्बाकू को कैसे छोड़ा जाये, इसकी जानकारी स्वास्थ्य विभाग के अपर शोधाधिकारी श्री अकील अहमद ने दी। पूर्व पैनल सदस्य श्री अनिल कुमार शर्मा और समाज कल्याण विभाग से प्रतिनिधि श्री देवेन्द्र त्रिवेदी ने अपने विभाग द्वारा संचालित योजनाओं के बारे में बताया।
इस अवसर पर जिला विद्यालय निरीक्षक प्रतिनिधि निर्देश मोहन मिश्रा, प्राधिकरण कार्यालय प्रभारी अश्वनी कुमार मिश्र, वृद्धाआश्रम के प्रबन्धक रमेश भदौरिया, लेखाकार शिवशंकर, पीएलवी टीम लीडर महेश सिंह परिहार, दीपक नारायण, करन सिंह यादव, रामदेव चतुर्वेदी, महेन्द्र मिश्रा, धर्मेन्द्र कुमार, श्रीमती मनीशा चतुर्वेदी समेत संवासी उपस्थित रहे।