उत्तर प्रदेश जालौन

शिक्षित महिलाएं न होने से नहीं ले पा रही सरकारी योजना का लाभ

उरई (जालौन)। (गोविंद सिंह दाऊ):- असंगठित क्षेत्र की श्रमिक महिलाएं शिक्षित न होने के कारण केन्द्र एवं राज्य सरकार द्वारा श्रमिक कल्याण योजनाओ का लाभ नही ले पा रही है। जिससे ग्रामीण क्षेत्रो मे श्रमिक पंजीयन बहुत कम है उपरोक्त विचार अनुरागिनी संस्था के परियोजना निदेशक रामसागर सिंह ने डकोर विकास खण्ड के ग्राम चैरसी मे विश्व श्रमिक दिवस के अवसर पर राष्ट्रीय कृषि एवं ग्रामीण विकास बैंक (नाबार्ड) द्वारा गठित स्वयं सहायता समूह से जुडी़ श्रमिक महिलाओ की गोष्ठी में कही । परियोजना निदेशक रामसागर सिंह ने बताया कि मजदूर दिवस भारत में ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में मनाया जाता है किसी भी देश के विकास के पीछे सबसे बड़ा हाथ मजदूरो का होता है। लिए राशि प्राप्त नहीं कर पाती है। इसलिए साक्षर होने की बाध्यता हटाने की मांग की जिससे अशिक्षित श्रमिकों व उनकी बालिकाओं को सरकारी योजनाओं का लाभ मिल सके। सहकार भारती की जिला महिला संगठन प्रमुख ऊषा सिंह ने कहा किअंतर्राष्ट्रीय श्रमिक दिवस मजदूरों और मजदूर वर्ग के लिए उत्सव का दिन है। इसे अंतर्राष्ट्रीय श्रमिक आंदोलन द्वारा बढ़ावा दिया जाता है। यह एक आंदोलन था जिसे श्रमिक वर्ग के हितों की रक्षा के लिए प्रतिक्रिया के रूप में विकसित किया गया था। दुनिया भर के अधिकांश देश 1 मई को अवकाश रखकर मजदूरों के प्रति अपना सम्मान व्यक्त करते हैं। लोग इस दिन को प्रेरक संदेश और श्रमिक दिवस की शुभकामनाएं देते हैं। किसान क्लब फैडरेशन के सदस्य श्यामकरन प्रजापति ने कहा कि मजदूरो श्रमिको रिक्शा चालको दिहाड़ी मजदूरो के लिये प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन पेंशन योजना में 18 से 40 वर्ष के मध्य के श्रमिक पंजीकरण कराकर योजना का लाभ प्राप्त कर सकते है। गोष्ठी में पाॅच समूहो की 45 महिलाये उपस्थित जिसमें वर्षा देवी, मंजूसा देवी, अर्चना, अन्जना, रजनी, आदि महिलाये उपस्थित थी।

Leave a Reply