DDU Gorakhpur

DDU Gorakhpur
– फोटो : अमर उजाला

ख़बर सुनें

दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय में शिक्षकों की भर्ती का लिफाफा सोमवार को खोला गया। तीन विभाग में 10 शिक्षकों को नियुक्ति पत्र दिया गया। अन्य 23 विभागों में 114  शिक्षकों के रिक्त पदों पर नियुक्ति के लिए टेस्ट, स्क्रीनिंग व साक्षात्कार की प्रक्रिया चल रही है।

विश्वविद्यालय में सोमवार को हुई कार्य परिषद की बैठक में सदस्यों के सामने नियुक्ति का लिफाफा खोला गया। बताया गया कि 10 विभागों में अध्यादेश के अनुसार प्रक्रिया पूरी कर ली गई है, जबकि पांच विभागों में पर्सनल प्रमोशन की भी प्रक्रिया पूरी नहीं हुई है।

जानकारी के मुताबिक वनस्पति विज्ञान विभाग में 1 प्रोफेसर (सामान्य), 1 एसोसिएट प्रोफेसर (ओबीसी), 1 असिस्टेंट प्रोफेसर (एससी) तथा तीन पदों पर चयन समिति को कोई भी योग्य अभ्यर्थी नहीं मिला। अर्थशास्त्र में 1 एसोसिएट प्रोफेसर, 1 असिस्टेंट प्रोफेसर ( एससी) तथा तथा 4 पदों पर चयन समिति को कोई भी योग्य अभ्यर्थी नहीं मिला। वाणिज्य में 1 असिस्टेंट प्रोफेसर का चयन हुआ है तथा तीन पदों पर चयन समिति को कोई भी योग्य अभ्यर्थी नहीं मिला।

रसायन विज्ञान में सात पदों के सापेक्ष एक प्रोफेसर तथा तीन असिस्टेंट प्रोफेसर का चयन हुआ एवं तीन पदों पर चयन समिति को कोई भी योग्य अभ्यर्थी नहीं मिला। कार्य परिषद ने सर्वसम्मति से निर्णय लिया है कि जिन पदों पर योग्य अभ्यर्थी नहीं मिले हैं, उन्हें जल्द ही विज्ञापित किया जाएगा।

 

प्राणी विज्ञान विभाग में 8 पदों में 1 एसोसिएट प्रोफेसर (एससी), 2 असिस्टेंट प्रोफेसर (सामान्य), 1 असिस्टेंट प्रोफेसर (एससी), 1 असिस्टेंट प्रोफेसर (ओबीसी), 1 असिस्टेंट प्रोफेसर (ईडब्ल्यूएस) का चयन हुआ है तथा दो पदों पर चयन समिति को कोई भी योग्य अभ्यर्थी नहीं मिला। कंप्यूटर साइंस, इलेक्ट्रॉनिक्स तथा राजनीति विज्ञान विभाग में चयन समिति को कोई योग्य अभ्यर्थी नहीं मिला।

इन शिक्षकों को मिली पदोन्नति
कॅरियर एडवांसमेंट स्कीम के तहत प्राणि विज्ञान विभाग के डॉ. केशव सिंह को एसोसिएट प्रोफेसर से प्रोफेसर तथा डॉ. एसके तिवारी को असिस्टेंट से एसोसिएट प्रोफेसर, राजनीति विज्ञान विभाग की डॉ निशा जायसवाल को एसोसिएट प्रोफेसर से प्रोफेसर, प्राचीन इतिहास विभाग के डॉ रामप्यारे मिश्र को असिस्टेंट प्रोफेसर से एसोसिएट प्रोफेसर, वाणिज्य विभाग के डॉ मनीष श्रीवास्तव को एसोसिएट प्रोफेसर से प्रोफेसर, रसायन शास्त्र विभाग के चार शिक्षकों डॉ सोमशंकर दुबे, डॉ निखिल कांत शुक्ला, डॉ नेत्रपाल, डॉ अखिलेश श्रीवास्तव को एसोसिएट प्रोफेसर से प्रोफेसर पद पर पदोन्नत किया गया।

कार्य परिषद के अन्य महत्वपूर्ण निर्णय
कार्यसमिति में लिए गए अन्य महत्वपूर्ण निर्णय में से नई शिक्षा नीति के अंतर्गत विश्वविद्यालय के अधिनियम तथा परिनियम में होने वाले परिवर्तन पर सुझाव देने के लिए कार्य परिषद के सदस्य प्रो राम अचल सिंह की अध्यक्षता में समिति गठित करने पर सहमति बनी। इसके साथ ही पूर्वांचल इनक्यूबेशन सेंटर में चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफिसर, मैनेजर तथा एपीआरओ की नियुक्ति के बारे में भी कार्य परिषद को जानकारी दी गई। अध्यक्षता कुलपति प्रो राजेश सिंह ने की। बैठक मेें प्रो राम अचल सिंह, डॉ प्रदीप राव, अनिल सिंह, बलिया विश्वविद्यालय की कुलपति प्रो कल्पलता पांडेय, वशिष्ठ नारायण त्रिपाठी आदि मौजूद रहे।

विस्तार

दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय में शिक्षकों की भर्ती का लिफाफा सोमवार को खोला गया। तीन विभाग में 10 शिक्षकों को नियुक्ति पत्र दिया गया। अन्य 23 विभागों में 114  शिक्षकों के रिक्त पदों पर नियुक्ति के लिए टेस्ट, स्क्रीनिंग व साक्षात्कार की प्रक्रिया चल रही है।

विश्वविद्यालय में सोमवार को हुई कार्य परिषद की बैठक में सदस्यों के सामने नियुक्ति का लिफाफा खोला गया। बताया गया कि 10 विभागों में अध्यादेश के अनुसार प्रक्रिया पूरी कर ली गई है, जबकि पांच विभागों में पर्सनल प्रमोशन की भी प्रक्रिया पूरी नहीं हुई है।

जानकारी के मुताबिक वनस्पति विज्ञान विभाग में 1 प्रोफेसर (सामान्य), 1 एसोसिएट प्रोफेसर (ओबीसी), 1 असिस्टेंट प्रोफेसर (एससी) तथा तीन पदों पर चयन समिति को कोई भी योग्य अभ्यर्थी नहीं मिला। अर्थशास्त्र में 1 एसोसिएट प्रोफेसर, 1 असिस्टेंट प्रोफेसर ( एससी) तथा तथा 4 पदों पर चयन समिति को कोई भी योग्य अभ्यर्थी नहीं मिला। वाणिज्य में 1 असिस्टेंट प्रोफेसर का चयन हुआ है तथा तीन पदों पर चयन समिति को कोई भी योग्य अभ्यर्थी नहीं मिला।

रसायन विज्ञान में सात पदों के सापेक्ष एक प्रोफेसर तथा तीन असिस्टेंट प्रोफेसर का चयन हुआ एवं तीन पदों पर चयन समिति को कोई भी योग्य अभ्यर्थी नहीं मिला। कार्य परिषद ने सर्वसम्मति से निर्णय लिया है कि जिन पदों पर योग्य अभ्यर्थी नहीं मिले हैं, उन्हें जल्द ही विज्ञापित किया जाएगा।

 





Source link

0Shares

ताज़ा ख़बरें

%d bloggers like this: