उत्तर प्रदेश जालौन

ईनामी बदमाश रह चुका है भाजपा नेता राजेन्द्र वर्मा पुर

० हरदोई जनपद सांडी विधायक के साथ की आठ लाख की ठगी

उरई(जालौन)।(गोविंद सिंह दाऊ):-। हरदोई जिले के सांडी विधायक प्रभास कुमार से आठ लाख रुपये की ठगी में जेल भेजा गया भाजपा नेता राजेन्द्र वर्मा पुर के कारनामे जनपद जालौन में भी कम नही है। बसपा नेता से बीस लाख की ठगी गांव के ही एक ब्राहम्ण की हत्या के अलावा मादक पदार्थो की तस्करी में भी राजेन्द्र वर्मापुर जाना पहचाना चेहरा माना जाता है।
उल्लेखनीय है कि हरदोई में 27 अप्रैल को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की रैली में टेंड हाउस संबंधी इंतजामों के नाम पर सांडी से भाजपा विधायक प्रभाषकुमार से आठ लाख की ठगी करने वाले जालौन जिले के कोटरा थाना के ग्राम पुर निवासी भाजपा नेता राजेन्द्र वर्मा पुर वर्तमान लोकसभा चुनाव में भाजपा से जालौन गरौठा भोगनीपुर लोकसभा क्षेत्र से टिकट की दावेदारी भी कर रहा था और उसने दावेदारी को लेकर खूब सुर्खियां भी बटोरी है। उसका मानना था कि अगर भानु वर्मा का टिकट कट जाता है तो पार्टी गौरीशंकर वर्मा को मौका देगी और फिर विधानसभा चुनाव में उरई क्षेत्र से उसकी भाजपा से दावेदारी पक्की हो जाएगी। भारतीय जनता पार्टी अनुसूचित मोर्चा का क्षेत्रीय उपाध्यक्ष बंुदेलखंड एवं कानपुर क्षेत्र का होने के कारण भी उसने अपने को खूब प्रचार किया। जब सांसद भानुप्रताप वर्मा का टिकट घोषित हुआ तो सबसे पहले लड्डू बांटने वालों में राजेन्द्र वर्मा पुर ही आगे रहा था। सांडी विधायक से आठ लाख की ठगी में जेल भेजे गये राजेन्द्र वर्मापुर ने अपनी ही पार्टी के विधायक को निशाना बनाया। भांडा तब फूटा जब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की रैली के बाद टेंट हाउस मालिक ने भुगतान मांगा और विधायक प्रभाष कुमार ने बताया कि वह तो टेंट मालिक जेपी यादव को पहले ही आठ लाख रुपये का भुगतान कर चुका है। जबकि जेपी यादव ने इससे साफ इनकार कर दिया। तब विधायक ने एसपी को जानकारी दी। हालांकि बोलेरो गाड़ी के फर्जी कागज देकर आठ लाख रुपये ऐठने वाला राजेन्द्र वर्मा पुर यह भूल गया कि उसने मिश्रिख से भाजपा प्रत्याशी अशोक रावत को अपने ही फोन से काॅल कर दिया था और यहीं से वह पकड़ में आ गया था। सर्विलांस टीम के द्वारा नंबर टेªस होने के बाद से ही हरदोई की सर्विलांस टीम ने राजेन्द्र वर्मा के पीछे पड़ गई और उसे जालौन से पकड़कर हरदोई ले आई। जहां से उसे जेल भेज दिया गया। खबर है कि हरदोई के पुलिस अधीक्षक द्वारा जालौन के पुलिस अधीक्षक से भाजपा नेता राजेन्द्र वर्मापुर के काले कारनामों का चिट्ठा मांगा गया है। जो एसपी जालौन के द्वारा भेजा जा चुका है। भाजपा नेता राजेन्द्र वर्मा पुर के काले कारनामों का एक साम्रज्य बताया जाता है जिसका सरगना एक पूर्व सांसद को माना जा रहा है कि वह सरगना के संरक्षण में ही अपने काले कारनामों को अंजाम देता है।

इंसेट–

जिला पंचायत चुनाव में की थी 20 लाख की ठगी
उरई। भाजपा नेता राजेन्द्र वर्मा पुर वर्ष 2010 के जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव में भी कुछ इसी तरह का कारनामा कर चुका है। सूत्रों के अनुसार पंचायत अध्यक्ष के चुनाव में जब सूबे में बसपा की सरकार थी और बसपा प्रत्याशी लाखन सिंह कुशवाहा को जिताने के लिए सरकार के प्रमुख मंत्री बाबू सिंह कुशवाहा ने अपनी पूरी ताकत लगा दी थी। चुनाव के दौरान ही बसपा प्रत्याशी के पास एक फोन जाता है कि चुनाव जीतने के लिए प्रशासन मैनेजमेंट के लिए बीस लाख की जरूरत है। लेकिन जब लाखन सिंह चुनाव हार गये तब उन्हें पता चला कि बीस लाख की अटैची लेने वाला कोई और नही यहीं राजेन्द्र वर्मापुर था। अटैची मारने के बाद वह अपने सरगना की कोठी में छिप गया था। जहां पर सरगना ने ही लाखन सिंह एवं राजेन्द्र वर्मापुर का आमना-सामना कराया था लेकिन रकम वापस नही हो सकी थी।

इंसेट–

भगवान श्रीराम का पुतला फूंकने का किया था ऐलान
उरई। भाजपा के सहयोग से प्रदेश में 1995 में बसपा की जब सरकार बनी तब राजेन्द्र्र वर्मा पुर बहुजन समाज पार्टी में था इसी दौरान राजेन्द्र वर्मा पुर के द्वारा टाउनहाल उरई के मैदान में विजय दशमी के दिन उसने श्रीराम का पुतला फूंकने का ऐलान किया था। लेकिन इसकी गूंज प्रदेश सरकार तक सुनाई दी गई थी और सरकार हरकत में आ गई थी। जिससे राजेन्द्र वर्मा पुर को पकड़ने के लिए दविश भी दी गई थी लेकिन वह पुलिस के हाथ नही आया। हालांकि इस पर भाजपा एवं हिन्दू संगठनों ने कड़ा एतराज जताते हुए पूरे टाउन हाल परिसर को घेर लिया था और परिसर पुलिस छावनी में तब्दील हो गया था।

इंसेट–

मय हथकड़ी जजी से भाग चुका था राजेंद्र
उरई। गांव पुर के एक तिवारी की हत्या के आरोपी भाजपा नेता राजेन्द्र वर्मा पुर पुलिस को चमका देकर मय हथकड़ी से जजी परिसर से फरार हो गया था। क्योंकि उस समय वह जेल में बंद था और जजी परिसर में तारीख पर लाया गया था और जैसे ही उसे पुलिस बल लाॅकप से निकालकर न्यायालय में पेश करने के लिए आगे बढ़े वैसे ही वह पुलिस को चकमा देकर जजी परिसर से फरार हो गया था तब उसके ऊपर दस हजार का इनाम भी घोषित किया था।

इंसेट–

मादक पदार्थो की तस्करी में भी लिप्त बताया जा रहा भाजपा नेता
उरई। भाजपा नेता राजेन्द्र वर्मा पुर वैसे तो राजनैतिक पार्टी का चोला ओढे हुए है। लेकिन उसके काले कारनामे किसी से छिपे नही है। जिले में उसे मादक पदार्थो का सबसे बड़ा स्मगलर माना जाता है। नेपाल से लेकर पूर्वाचल तक मादक पदार्थो की खेप लाने में उसे महारत हासिल हैंै। सूत्रों की माने तो पिछले वर्ष वह बाराबंकी जिले में मादक पदार्थो की खेप के साथ पकड़ा गया था लेकिन मौके पर ही पुलिस को मोटी चढौती चढ़ाकर वह बच निकला था। चूंकि इस समय वह भाजपा अनुसूचित मोर्चा का बुंदेलखंड एवं कानपुर क्षेत्र का क्षेत्रीय उपाध्यक्ष पद पर है। ऐसे में उसे अपना कारोबार फैलाने में अच्छी खासी मदद मिली। सूत्रों की माने तो इसका सरगना एक पूर्व सांसद है जो इसे हर समय संरक्षण देता आया है। जिसके चलते प्रशासन एवं पुलिस में धमक के कारण सरगना द्वारा इसे बचा लिया जाता है।

इंसेट
टुकड़खोर मीडिया का चहेता रहा राजेन्द्र पुर
उरई। सांडी के भाजपा विधायक प्रभाष कुमार से आठ लाख की ठगी में जेल भेजा गया राजेन्द्र वर्मा पुर जालौन जिले के मुख्यालय उरई की टुकड़खोर मीडिया का चहेता माना जाता है। भाजपा का चाहे कोई कार्यक्रम रहा हो टुकड़खोर मीडिया को पांच सौ रुपये का पत्ता राजेन्द्र पुर से मिलना आम बात रही। यहीं वजह है कि मीडिया की सुर्खियांे में रहने के कारण उसके काले कारनामे हमेशा नजरअंदाज होते रहे है। चाहे जुए के फड़ों को संरक्षण देने का मामला रहा हो या फिर मादक पदार्थो की तस्करी का राजेन्द्र वर्मा के कालेकारनामों का मीडिया ने कभी भी चूं तक नहीं की। यहीं वजह है कि भाजपा में प्रमुख पद हासिल करने के बाद वह खुलकर खेलने में लगा हुआ था।

Leave a Reply