05एमएनपी-09-क्रिश्चियन मैदान में भाषण देते सपा ेसणरक्षक मुलायम सिंह, फाइल फोटो

05एमएनपी-09-क्रिश्चियन मैदान में भाषण देते सपा ेसणरक्षक मुलायम सिंह, फाइल फोटो
– फोटो : MAINPURI

ख़बर सुनें

मैनपुरी। मैनपुरी लोकसभा सीट पर उपचुनाव का शंखनाद हो गया है। हर दल बाहें समेटकर चुनाव के लिए तैयार है। भाजपा जहां पार्टी की नीतियों और सरकार की योजनाओं की दम पर मैदान में उतरने को तैयार है। वहीं सपा इन सबसे इतर मैनपुरी में मुलायम की यादों का चुनाव लड़ेगी। नेताजी के निधन को ज्यादा वक्त नहीं हुआ है, ऐसे में उनकी यादें पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं के साथ ही आमजन के दिलों में जिंदा हैं। सपा जनता की सहानुभूति हासिल करने की कोशिश में रहेगी।
देश के कद्दावर नेता और सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव का 10 अक्तूबर को निधन हो गया था। वह मैनपुरी लोकसभा सीट से सांसद थे, इसी कारण अब इस सीट पर पांच दिसंबर को मतदान होगा। चार अक्तूबर 1992 को नेताजी ने समाजवादी पार्टी का गठन किया और वर्ष 1996 का पहला लोकसभा चुनाव लड़ा। सपा के गठन के बाद से इस सीट पर अन्य किसी दल को जीत नहीं मिली। इसीलिए मैनपुरी को सपा का गढ़ कहा जाता है। हर दल ने गढ़ को तोड़ने की कोशिश की, लेकिन सफलता किसी के हाथ नहीं लगी। अब नेताजी नहीं हैं, उनके बिना ही, उनकी कर्मभूमि पर चुनाव होगा। विरोधी दल नेताजी के गढ़ में सेंध लगाने की पूरी कोशिश करेंगे। वहीं सपा भी नेताजी की विरासत वाली सीट पर जीत दर्ज करने के लिए मैदान में उतरेगी। समाजवार्दी पार्टी मतदाताओं की सहानुभूति नेेताजी की यादों के सहारे इस चुनाव में हासिल करने की पूरी कोशिश करेगी।
—–
हर चुनाव में चला नेताजी का जादू
सपा के गठन के बाद से अब तक मैनपुरी लोकसभा सीट पर कुल नौ लोकसभा चुनाव हुए। प्रत्याशी कोई भी रहा हो, पर्दे के पीछे हमेशा नेताजी ही रहे। हर चुनाव में उनका जादू चला। उनके जादू के दम पर ही सपा कभी भी लोकसभा चुनाव नहीं हारी। हर चुनाव में पार्टी प्रत्याशी ने जीत दर्ज की।
—–
मुलायम पांच बार मैनपुरी से पहुंचे संसद
नेताजी मुलायम सिंह यादव अपने जीवन में सात बार सांसद चुने गए। मैनपुरी से उन्होंने पांच लोकसभा चुनाव लड़े और हर चुनाव को जीता। मैनपुरी के मतदाताओं ने अपने नेता को पांच बार संसद पहुंचाया। धरतीपुत्र की धरती पर सपा प्रत्याशियों ने हर बार बड़े अंतर से जीत दर्ज की।
—–
अब तक चुने गए सांसद
वर्ष सांसद पार्टी
1952 बादशाह गुप्ता कांग्रेस
1957 वंशीदास धनगर प्रसोपा
1962 बादशाह गुप्ता कांग्रेस
1967 महाराज सिंह कांग्रेस
1971 महाराज सिंह कांग्रेस
1977 रघुनाथ सिंह वर्मा लोकदल
1980 रघुनाथ सिंह वर्मा जनता पार्टी
1984 बलराम सिंह यादव कांग्रेस
1989 उदयप्रताप सिंह यादव जनता दल
1991 उदयप्रताप सिंह यादव सजपा
1996 मुलायम सिंह यादव सपा
1998 बलराम सिंह यादव सपा
1999 बलराम सिंह यादव सपा
2004 मुलायम सिंह यादव सपा
2004 धर्मेंद्र यादव- उपचुनाव सपा
2009 मुलायम सिंह यादव सपा
2014 मुलायम सिंह यादव सपा
2014 तेजप्रताप यादव उपचुनाव सपा
2019 मुलायम सिंह यादव सपा

मैनपुरी। मैनपुरी लोकसभा सीट पर उपचुनाव का शंखनाद हो गया है। हर दल बाहें समेटकर चुनाव के लिए तैयार है। भाजपा जहां पार्टी की नीतियों और सरकार की योजनाओं की दम पर मैदान में उतरने को तैयार है। वहीं सपा इन सबसे इतर मैनपुरी में मुलायम की यादों का चुनाव लड़ेगी। नेताजी के निधन को ज्यादा वक्त नहीं हुआ है, ऐसे में उनकी यादें पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं के साथ ही आमजन के दिलों में जिंदा हैं। सपा जनता की सहानुभूति हासिल करने की कोशिश में रहेगी।

देश के कद्दावर नेता और सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव का 10 अक्तूबर को निधन हो गया था। वह मैनपुरी लोकसभा सीट से सांसद थे, इसी कारण अब इस सीट पर पांच दिसंबर को मतदान होगा। चार अक्तूबर 1992 को नेताजी ने समाजवादी पार्टी का गठन किया और वर्ष 1996 का पहला लोकसभा चुनाव लड़ा। सपा के गठन के बाद से इस सीट पर अन्य किसी दल को जीत नहीं मिली। इसीलिए मैनपुरी को सपा का गढ़ कहा जाता है। हर दल ने गढ़ को तोड़ने की कोशिश की, लेकिन सफलता किसी के हाथ नहीं लगी। अब नेताजी नहीं हैं, उनके बिना ही, उनकी कर्मभूमि पर चुनाव होगा। विरोधी दल नेताजी के गढ़ में सेंध लगाने की पूरी कोशिश करेंगे। वहीं सपा भी नेताजी की विरासत वाली सीट पर जीत दर्ज करने के लिए मैदान में उतरेगी। समाजवार्दी पार्टी मतदाताओं की सहानुभूति नेेताजी की यादों के सहारे इस चुनाव में हासिल करने की पूरी कोशिश करेगी।

—–

हर चुनाव में चला नेताजी का जादू

सपा के गठन के बाद से अब तक मैनपुरी लोकसभा सीट पर कुल नौ लोकसभा चुनाव हुए। प्रत्याशी कोई भी रहा हो, पर्दे के पीछे हमेशा नेताजी ही रहे। हर चुनाव में उनका जादू चला। उनके जादू के दम पर ही सपा कभी भी लोकसभा चुनाव नहीं हारी। हर चुनाव में पार्टी प्रत्याशी ने जीत दर्ज की।

—–

मुलायम पांच बार मैनपुरी से पहुंचे संसद

नेताजी मुलायम सिंह यादव अपने जीवन में सात बार सांसद चुने गए। मैनपुरी से उन्होंने पांच लोकसभा चुनाव लड़े और हर चुनाव को जीता। मैनपुरी के मतदाताओं ने अपने नेता को पांच बार संसद पहुंचाया। धरतीपुत्र की धरती पर सपा प्रत्याशियों ने हर बार बड़े अंतर से जीत दर्ज की।

—–

अब तक चुने गए सांसद

वर्ष सांसद पार्टी

1952 बादशाह गुप्ता कांग्रेस

1957 वंशीदास धनगर प्रसोपा

1962 बादशाह गुप्ता कांग्रेस

1967 महाराज सिंह कांग्रेस

1971 महाराज सिंह कांग्रेस

1977 रघुनाथ सिंह वर्मा लोकदल

1980 रघुनाथ सिंह वर्मा जनता पार्टी

1984 बलराम सिंह यादव कांग्रेस

1989 उदयप्रताप सिंह यादव जनता दल

1991 उदयप्रताप सिंह यादव सजपा

1996 मुलायम सिंह यादव सपा

1998 बलराम सिंह यादव सपा

1999 बलराम सिंह यादव सपा

2004 मुलायम सिंह यादव सपा

2004 धर्मेंद्र यादव- उपचुनाव सपा

2009 मुलायम सिंह यादव सपा

2014 मुलायम सिंह यादव सपा

2014 तेजप्रताप यादव उपचुनाव सपा

2019 मुलायम सिंह यादव सपा





Source link

0Shares

ताज़ा ख़बरें

%d bloggers like this: