योगा सेंटर का फीता काटकर अतिरिक्त मजिस्ट्रेट ने किया

वक्तताओं योगा के बारे में विस्तार से दी गयी जानकारी

उरई (जालौन)(गोविंद दाऊ):- शहर के स्टेशन रोड़ सिटी सेंटर के सामने स्थित योगा सेंटर का फीता काटकर अतिरिक्त मजिस्ट्रेट कौशल किशोर ने शुभारंभ किया। जबकि विशिष्ट अतिथि के रूप ईबीएम पुष्पेन्द्र सिंह मौजूद रहे। कार्यक्रम का संचालन डा. ममता स्वर्णकार ने किया।
कोरोना के दौरान योगा प्रशिक्षण बंद कर दिया गया था। बीमारियों से छुटकारा पाने के लिए योगा करना बहुत ही जरूरी है लोग स्वास्थ्य और निरोगी रह सके।
डा. देवेन्द्र सिंह परमार ने कहा कि योग विद्या हमारे प्राचीन ऋषि मुनियों द्वारा किया जाता रहा है योग विद्या करने वाला ब्यक्ति निरोग रहता है। प्रोफेसर आनंद शर्मा ने भी योग अभ्यास के बारे विस्तार से जानकारी दी। कार्यक्रम के अंत में एम. ए. योगा रिसर्च स्कालर सर्टिफाइड योग थेरेपिस्ट राजदीप सिंह परमार और उनके पिता देवेन्द्र सिंह परमार ने आये हुए अतिथियों का आभार ब्यक्त किया।

कुठौन्द में अवैध रूप से शिक्षा माफियाओं द्वारा संचालित किए जा रहे हैं स्कूल

उरई (जालौन)(गोविंद दाऊ):- कस्बा कुठौन्द में अवैध रूप से इंटर कॉलेज विगत 5 व आठ वर्षों से शिक्षा माफिया द्वारा संचालित किए जा रहे हैं प्रमुख रूप से उल्लंघन करते हुए बाजार में सरस्वती ज्ञान मंदिर इंटर कॉलेज जो की कक्षा 8 तक मान्यता प्राप्त है मनोज यादव द्वारा अवैध रूप से धारा 18 अधिनियम 2009 के नियम का उल्लंघन करते हुए संचालित किया जा रहा है तथा एआईएम इंटर कॉलेज पंकज अग्निहोत्री द्वारा किया जा रहा है संस्कृत पाठशाला की दो अन्य घरों में अवैध रूप से कक्षाओं को संचालित किया जा रहा है। ए आई एम इंटर कॉलेज में कोई मान्यता नहीं है 11 जुलाई को जारी पत्र में अवैध विद्यालयों को तुरंत बंद करने के निर्देश दिए गए हैं यहां अधिनियम 2009 धारा 18 में स्कूल की मान्यता का हवाला देते हुए कहा गया है कि यदि स्कूल अवैध रूप से संचालित है तो रुपया 100000 एक लाख का दंड देना होगा तथा 10000 दिन का अर्थदंड लगाया जाएगा कस्वा कुठौन्द में अवैध रूप से लगभग आधा दर्जन हाई स्कूल तथा इंटर कॉलेज चलाए जा रहे हैं। किसी भी अवैध विद्यालय में नहीं हो रहा कोविड-19 के नियमों का पालन जबकि सरकार की गाइडलाइंस के मुताबिक कुठौन्द के शिक्षा माफिया नहीं कर रहे नियमों का पालन सरकार के आदेशों की धज्जियां उड़ाने में शिक्षा माफिया कतई नहीं कर रहे है कोताही ऐसे में शासन व प्रशासन को अवैध संचालित विद्यालयों पर कानूनी कार्यवाही करें ताकि मान्यता प्राप्त विद्यालयों को उचित छात्र संख्या मिल सके और उनके दुकानों का पर्दाफाश हो सके यही मान्यता प्राप्त विद्यालय के संचालन कर्ताओं का विशेष अनुरोध है।

सकुशल निर्वाचन सम्पन्न कराने के लिए डीएम ने ली बैठक

 स्नातक निर्वाचन से जुड़े पीठासीन अधिकारियों की ली बैठक
उरई(जालौन)(गोविंद दाऊ)इलाहाबाद-झांसी खण्ड स्नातक निर्वाचन क्षेत्र के अन्तर्गत जनपद जालौन के निर्वाचन सकुशल सम्पन्न कराये जाने के सम्बन्ध में जिलाधिकारी/जिला निर्वाचन अधिकारी डा. मन्नान अख्तर की अध्यक्षता में समस्त पीठासीन अधिकारी एवं प्रथम मतदान अधिकारी का प्रशिक्षण विकास भवन सभागार में सम्पन्न हुआ। प्रशिक्षण के दौरान जिलाधिकारी/जिला निर्वाचन अधिकारी द्वारा समस्त पीठासीन अधिकारी एवं प्रथम मतदान अधिकारी को निर्वाचन आयोग के दिशा-निर्देशों के अनुसार जानकारी दी। उन्होने बताया कि मतदान के 01 दिसम्बर 2020 को मतदान कार्मिक कोविड-19 के दिशा-निर्देशों का पूर्णतः पालन सुनिश्चित करेगे, समस्त अधिकारी/कर्मचारी मास्क तथा सेनेटाइजर का प्रयोग सुनिश्चित करे, सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन किया जाये, प्रत्येक बूथ पर मतदाताओं की थर्मल स्क्रीनिंग की जायेगी। उन्होने बताया कि पीठासीन अधिकारी बैलट बाक्स को खोलना अथवा बन्द करना तथा सील आदि की जानकारी भलीभाँति करले जिससे किसी भी प्रकार की परेशानी न हो। उन्होने यह भी बताया कि मतदान दिनांक 01 दिसम्बर 2020 को प्रातः 08ः00 बजे प्रारम्भ होगा और सायं 05ः00 बजे समाप्त होगा। उन्होने यह भी बताया कि मतदान केन्द्रों पर पुरूष एवं महिला की अलग-अलग लाईने लगायी जायेगी यदि सायं 05ः00 बजे मतदान हेतु लम्बी लाईने लगी हुई है तो पीठासीन अधिकारी द्वारा पर्चियां बनाकर लाईन में लगे हुये सबसे अन्तिम मतदाता को एक नम्बर की पर्ची देते हुये मतदाता को क्रमानुसार पर्ची दी जाये और जितने मतदाता सायं 05ः00 बजे तक लाईन में लगे हुये है उन सभी के वोट डलवाये जाये।
इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी प्रशान्त कुमार श्रीवास्तव, अपर जिलाधिकारी प्रमिल कुमार सिंह, नगर मजिस्ट्रेट सुनील कुमार शुक्ला सहित अन्य अधिकारीगण मौजूद रहे।

आप ने राष्ट्रपति को सम्बोधित ज्ञापन एसडीएम अतिरिक्त को सौपा

 उ. प्र. में महिलाओं पर हो रहे बलात्कार व हत्याओं का मुद्दा उठाया

उरई (जालौन)(गोविंद दाऊ)आम आदमी पार्टी के जिलाध्यक्ष दीनदयाल काका के नेतृत्व में आम आदमी पार्टी के हरगोविंद सोनी, अब्दुल सईद, हाशिम, इमरान, विवेक सागर, आदित्य चतुर्वेदी, मु. उबैस सिददीकी, जयशंकर निरंजन, धर्मेंद्र जाटव, प्रवीन रायकवार, रामजी शरण दुवे, शब्बीर, लालमन जाटव, प्रदीप वर्मा आदि संगठन के लोगों ने कलेक्ट्रेट पहुंच कर राष्ट्रपति को सम्बोधित तीन सूत्रीय मांगपत्र एसडीएम अतिरिक्त को सौंपा। इस मौके पर आम आदमी पार्टी के जिलाध्यक्ष दीनदयाल काका ने कहा कि उत्तर प्रदेश में महिलाओं के साथ बलात्कार और हत्या की घटनाएं हो रही है जिन्हें रोक पाने में प्रदेश की भाजपा सरकार बिफल साबित हो रही है ऐसी स्थिति में प्रदेश की योगी सरकार को बर्खास्त करने की मांग आम आदमी पार्टी करती है।उन्होंने कहा कि पुलिस अपराधियों पर कार्यवाही करने की बजाय जहां एक तरफ दोषियों को बचाती नजर आ रही है वहीं दूसरी तरफ पीड़िता के परिवार को ही प्रताडित करती है।परिणाम स्वरुप सूबे में कानून ब्यवस्था नाम की कोई चीज नहीं बची है महिलाओं के ऊपर अपराध लगातार बढ़ते ही जा रहे है और महिलाएं ही यौन शोषण का शिकार हो रही है। उन्होंने राष्ट्रपति से मांग की है जल्द से जल्द योगी आदित्यनाथ की सरकार को बर्खास्त किया जाये ताकि सूबे में कानून का राज स्थापित हो सके।

स्टेशन मास्टर व माल बाबू की दबंई, चावल से लदे रैक को पक्की साइड खड़ा करवाया

 नाराज ठेकेदार ने डीआरएम सहित आलाधिकारियों से की शिकायत

उरई (जालौन)(गोविंद दाऊ) स्टेशन मास्टर और माल गोदाम बाबू की दबंई के चलते चावल से लदी रैक को
पक्की साइड में खड़ा करवा देने से नाराज ठेकेदार ने मामले की शिकायत डीआरएम सहित अन्य अधिकारियों को भेजकर कार्यवाही की मांग की है।
गत दिवस रेलवे माल गोदाम पर हड़कंप मच गया जहां पर पहले से ही यूरिया खाद की बोरियां रखी थी इसके बावजूद स्टेशन मास्टर एपी वर्मा और माल बाबू सोनकर पंजाब से आया भारतीय खाद्य निगम के चावल की रैक उतारने के खड़ी करवा दी। यह जानकारी लगते ही एफसीआई के ठेकेदार के सहयोगियों और मजदूरों ने हंगामा काट डाला और मामले की शिकायत रेलवे विभाग के उच्चाधिकारियों से की। ठेकेदार ने स्टेशन मास्टर पर अनदेखी का आरोप लगाते हुए बताया कि रैक को कच्ची साइड पर खड़ा किये जाने के लिए स्टेशन मास्टर तीन घंटे पहले पत्र दिया था लेकिन उन्होंने पत्र को गम्भीर से नहीं लिया इसी बजह से चावल से लदी रैक 12 घंटे तक जहां की यहां खड़ी रही। एफसीआई ठेकेदार संतोष कुमार परिहार के प्रतिनिधि शब्बन हुसैन रिजवी का कहना है कि झांसी एण्ड की तरफ से रेलवे का माल गोदाम बना है जहां पर पहले से ही यूरिया खाद की रैक खाली हो रही थी जिसकी बोरियां परिसर में रखी थी जो मजदूरों द्वारा उतारी गयी थी। उन्होंने बताया कि डियूटी पर तैनात एसएस खरे पत्र देकर अवगत कराया था कि
पक्की साइड पर पहले खाद पड़ी है ऐसे वहां पर खाने पीने का चावल उतारना खतरे से खाली नहीं है इस लिए चावल की रैक की कच्ची साइड में ही खाली करवाया जाये। जिससे जो चावल आया है उसे सुरक्षित उतरा जा सके।शब्बन हुसैन रिजवी का कहना है कि कच्ची साइड खाली थी इसके बाद भी स्टेशन मास्टर और माल बाबू ने चावल की रैक को यूरिया खाद की बोरियों के उतरवाने के लिए खड़ा करवा दी।उन्होंने बताया कि इस मामले की शिकायत रेलवे विभाग के डीआरएम और उच्चाधिकारियों से की गयी है।

ग्रामीण-शहरी दूरियों को पाट रहा है रूर्बन मिशन-डीएम

उरई (जालौन)(गोविंद दाऊ) जिलाधिकारी डा. मन्नान अख्तर द्वारा अवगत कराया गया है कि भारत सरकार की श्यामा प्रसाद मुखर्जी रूर्बन मिशन के अन्तर्गत प्रदेश के ऐसे ग्रामीण क्षेत्रों में ग्रामीण कलस्टरों की पहचान की जाती है जहां शहरी घनत्व में वृद्धि, गैर-कृषि रोजगारों के उच्च स्तर, आर्थिक गतिविधियां बढ़ाने और अन्य सामाजिक-आर्थिक पैमाने बढ़ाते हुए शहरीकरण जैसी सुविधाएं देना है। रूर्बन मिशन शहर की सुविधा एवं गांव की आत्मा के विचार पर आधारित है। अर्थात नगरों में जो आर्थिक, संरचनात्मक तकनीकी सुविधाएं हैं, उनका लाभ लेते हुए गांव के लोगों में सामुदायिकता की भावना बनी रहे, जो सतत विकास के लिए जरूरी है। मिशन के अन्तर्गत ग्रामीण क्षेत्रों में समेकित परियोजना पर आधारित संरचनात्मक सुविधाएं प्रदान करने के साथ-साथ आर्थिक क्रियाकलाप और कौशल विकास भी शामिल हैं। रूर्बन मिशन कार्यक्रम में विभिन्न योजनाओं की निधियों का उपयोग करते हुए सार्वजनिक-निजी भागीदारी के माध्यम से लाभ प्रदान करने की वरीयता दी जाती है। रूर्बन मिशन के अन्तर्गत नगरों के नजदीक के या ऐसे ग्रामीण क्षेत्र जिनकी मैदानी तटीय क्षेत्रों में आबादी 25 से 50 हजार, पर्वतीय या जनजातीय क्षेत्रों में 5 से 15 हजार आबादी वाले भौगोलिक रूप से एक दूसरे के समीप के गांवों को मिलाकर एक क्लस्टर बनाया जाता है, इसका उद्देश्य स्थानीय आर्थिक विकास करना, आधारभूत सेवाओं को बढ़ाना और सुनियोजित रूर्बन क्लस्टरों का सृजन करना है। इस योजना को लागू कर शहरी और ग्रामीण अन्तर को समाप्त करना है। प्रदेश सरकार क्लस्टर के गांवों में गरीबी और बेरोजगारी पर बल देते हुए लोगों को स्थानीय स्तर पर रोजगार से लगाते हुए आर्थिक विकास कर रही है। प्रदेश सरकार ने ग्रामीण जनजीवन के मूल स्वरूप को बनाये रखते हुए प्रदेश में जुलाई 2020 तक 3 चरणोें में कुल 19 क्लस्टर को ‘‘रूर्बन गांवों’’ के रूप में विकसित किया है। रूर्बन क्लस्टरों के विकास के लिए विभिन्न घटकों का क्रियान्वयन किया जाता है। सम्बंधित क्षेत्र क्लस्टर के ग्रामों में कौशल विकास के अन्तर्गत प्रशिक्षण देकर युवकों को रोजगार से जोड़ा जा रहा है। प्रदेश सरकार ने 19 क्लस्टरों के ग्रामों के 8445 व्यक्तियों को कौशल विकास के अन्तर्गत प्रशिक्षण देकर उन्हें रोजगार से लगाया है। कृषि संसाधन कृषि सेवाएं, संग्रहण मालगोदाम के लिए कृषकों व कृषि कार्य में लगे लोगों की उत्पादित खाद्य सामग्री को प्रोसेसिंग कर पैकेटिंग आदि कर विक्रय करने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है। उसी तरह ऐसे गांवों में स्वास्थ्य सुविधाएं भी स्थानीय स्तर पर सुलभ कराया जा रहा है। सभी क्लस्टरों में शिक्षा की सुविधा व उन्नयन पर बल दिया जा रहा है। प्रदेश सरकार ने क्लस्टर के ग्रामों में 19 स्मार्ट क्लास रूम एवं 425 प्राथमिक एवं उच्च प्राथमिक विद्यालयों का उन्नयन किया है, साथ ही बच्चों को स्वच्छ पानी उपलब्ध कराने के लिए 110 विद्यालयों में आरओ प्लांट का निर्माण भी कराया है। रूर्बन मिशन के अन्तर्गत प्रदेश सरकार ने स्वच्छता पर बल देते हुए समस्त 19 क्लस्टर में शत-प्रतिशत घरों में शौचालयों का निर्माण कराते हुए ओडीएफ घोषित किया है इसके अन्तर्गत क्लस्टर के ग्रामों में 21500 व्यक्तिगत शौचालयों का निर्माण कराया गया है। क्लस्टर के गांवों में स्वच्छ पेयजल आपूर्ति की जा रही है। गांवों में ठोस एवं तरल अपशिष्ट प्रबन्धन के लिए स्वच्छता मिशन फ्लस के अन्तर्गत कार्यवाही की जा रही है। क्लस्टर के ग्रामों में गलियों, नालियों व सम्पर्क मार्गों का भी निर्माण किया गया है। क्लस्टरों में लगभग 90 किमी. के सम्पर्क मार्ग, सीसी रोड का निर्माण किया गया है। नगरीय सुविधाएं देते हुए ऐसे गांवों में सीजीएफ अन्तर्गत 4360 सोलर स्ट्रीट लाइट एवं 113 हाई मास्ट सोलर लाइट का निर्माण कराते हुए स्थापना की गई है। क्लस्टर के ग्रामों में 18 बहुउद्देशीय सामुदायिक भवन एवं 19 बारात घर का निर्माण कराते हुए लोगों को सुविधाएं दी गई है। प्रदेश सरकार इन क्षेत्रों में परिवहन सेवाएं भी उपलब्ध करा रही है। रूर्बर मिशन, के अन्तर्गत बनाये गये क्लस्टर में गरीबी रेखा के नीचे जीवनयापन करने वाले समस्त परिवारों को 9375 एल0पी0जी0 गैस कनेक्शन देकर खाना बनाने के लिए धुंआरहित कर दिया है। प्रदेश सरकार इन क्षेत्रों में डिजिटल को बढ़ावा दे रही है और जन सुविधा केन्द्र भी खुलवाये गये हैं जिससे लोगों का आवश्यक कार्य डिजिटल रूप से होता रहे, उन्हें अन्य स्थान पर जाना न पड़े। प्रदेश सरकार प्रदेश के चिन्हित 19 क्लस्टरों में लगभग 196 करोड़ रुपये से अधिक धनराशि व्यय कर शहरी बुनियादी जरूरतों के लिए निर्माण कार्य करा चुकी है। सरकार के इस विकासपरक कार्य से ग्रामीण-शहरी दूरियां पट रही है और लोगों को शहरी सुविधाएं मिलने लगी है। श्यामा प्रसाद मुखर्जी रूर्बन मिशन के अन्तर्गत वर्ष 2019-20 में उत्तर प्रदेश को ओवर आल परफारमेंस तथा रूर्बन साॅफ्ट इन्टीग्रेशन इन पीएफएमएस में भारत सरकार से राष्ट्रीय पुरस्कार भी प्राप्त हुआ है।

प्रधान व सचिव द्वारा अपात्रों को आवास दिये जाने की शिकायत एसडीएम से

 विकास खण्ड माधौगढ़ के ग्राम शहबाजपुर के ग्रामीणों ने सौंपा ज्ञापन

उरई (जालौन)(गोविंद दाऊ) माधौगढ़ विकास खण्ड क्षेत्र के ग्राम शहबाजपुर के दर्जनों ग्रामीणों ने आज कलेक्ट्रेट पहुंच कर अतिरिक्त मजिस्ट्रेट को ज्ञापन भेंट कर बताया कि ग्राम प्रधान और सचिव द्वारा मिलकर अपात्र लोगों को आवास दिये जा रहे है जबकि पात्र लोग आवास पाने से वंचित है।
माधौगढ़ विकास खण्ड क्षेत्र के ग्राम शहबाजपुर निवासी विशम्भर, अजबसिंह, राजेन्द्र शाह, सुशील कुमार, जयसिंह, बिटोली आदि ने कलेक्ट्रेट पहुंच कर अतिरिक्त मजिस्ट्रेट को ज्ञापन देते हुए बताया है कि वह सभी लोग गरीब और निरधन है कच्चे मकान बने हुए है। ग्रामीणों का आरोप है कि प्रधान, सचिव और पंचायत मित्र की मिली भगत से अपात्र लोगों जिनके पास पक्के मकान व जमीन और पैसे वाले है ऐसे लोगों को सरकारी आवास दिये गये है इन लोगों जमकर पैसा भी वसूला गया है तथा हम लोगों द्वारा पैसा नहीं दिये जाने के कारण आवास सूची नाम काटकर अपात्र कर दिया गया है।ग्रामीणों का आरोप है कि पंचायत मित्र द्वारा राशनकार्ड जारी करने पर भी रुपयों की वसूली की गयी है। जिन लोगों ने पैसे नहीं दिये उन लोगों के नाम राशनकार्ड से काट दिये गये है। ग्रामीणों ने आवंटित आवासों की जांच करवा कर निरस्त किये जाने की मांग उठाई है जिससे पात्र और गरीब लोगों को सरकारी आवास मिल सके।

शीतकाल में अलाव की लकड़ी में भ्रष्टाचार का आरोप

कोंच के सभासदों ने डीएम को सौपा ज्ञापन, जांच की उठाई मांग

उरई (जालौन)(गोविंद दाऊ):-नगर पालिका परिषद कोंच के आधा दर्जन से अधिक सभासदों में अर्चना रजक, सुनीता वर्मा, वंदना यादव, अरविंद, नसीम, विशाल गिरवासिया, दंगल सिंह, चौ. मुवारिक कुरैशी, सितारा, शमसुद्दीन आदि सभासदों ने आज मंगलवार को सपा नगर अध्यक्ष छोटू टाईगर के नेतृत्व में कलेक्ट्रेट पहुंच जिलाधिकारी को दिये ज्ञापन में आरोप लगाया है कि नगर पालिका परिषद कोंच में शीतकाल में अलाव लगाने हेतु सूखी जलाऊ लकड़ी का क्रय किया जाना था जिसमें नगर पालिका अध्यक्षा ने निजी स्वार्थों की पूर्ति करते हुए गुपचुप तरीके से लकड़ी का क्रय अपने चहेते ठेकेदार रफीक पुत्र पीर मुहम्मद निवासी गोराकरन तहसील कोंच से 555 रुपये प्रति कुंटल टेण्डर प्रदान कर दिया गया जबकि बाजार के अन्य लकड़ी विक्रेता 400-430 रुपये प्रति कुंटल देने को तैयार है। सभासदों का आरोप है कि निजी भ्रष्टाचार में संलिप्त पालिका अध्यक्षा ने अन्य दुकानदारों के कागज तक स्वीकार नहीं किये और न ही लकड़ी क्रय करने का कोई प्रस्ताव बोर्ड बैठक में लाया गया है। सभासदों का आरोप है कि निजी स्वार्थ के कारण पालिका के आर्थिक अनावश्यक ब्यय को रोकने में पालिका अध्यक्षा की कोई दिलचस्पी नहीं है। सभासदों ने जिलाधिकारी से मांग की है कि जो लकड़ी का टैंडर रफीक पुत्र पीर मुहम्मद के नाम से किया गया है उसे रद्द कर नई विज्ञप्ति जारी करवाई जाये जिससे पालिका को सस्ते दामों में सूखी एवं जलाऊ लकड़ी मिल सके तथा जनता के पैसे का अनावश्यक ब्यय न हो सके।

शीतकाल में अलाव की लकड़ी में भ्रष्टाचार का आरोप

कोंच के सभासदों ने डीएम को सौपा ज्ञापन, जांच की उठाई मांग

उरई (जालौन)(गोविंद दाऊ):-नगर पालिका परिषद कोंच के आधा दर्जन से अधिक सभासदों में अर्चना रजक, सुनीता वर्मा, वंदना यादव, अरविंद, नसीम, विशाल गिरवासिया, दंगल सिंह, चौ. मुवारिक कुरैशी, सितारा, शमसुद्दीन आदि सभासदों ने आज मंगलवार को सपा नगर अध्यक्ष छोटू टाईगर के नेतृत्व में कलेक्ट्रेट पहुंच जिलाधिकारी को दिये ज्ञापन में आरोप लगाया है कि नगर पालिका परिषद कोंच में शीतकाल में अलाव लगाने हेतु सूखी जलाऊ लकड़ी का क्रय किया जाना था जिसमें नगर पालिका अध्यक्षा ने निजी स्वार्थों की पूर्ति करते हुए गुपचुप तरीके से लकड़ी का क्रय अपने चहेते ठेकेदार रफीक पुत्र पीर मुहम्मद निवासी गोराकरन तहसील कोंच से 555 रुपये प्रति कुंटल टेण्डर प्रदान कर दिया गया जबकि बाजार के अन्य लकड़ी विक्रेता 400-430 रुपये प्रति कुंटल देने को तैयार है। सभासदों का आरोप है कि निजी भ्रष्टाचार में संलिप्त पालिका अध्यक्षा ने अन्य दुकानदारों के कागज तक स्वीकार नहीं किये और न ही लकड़ी क्रय करने का कोई प्रस्ताव बोर्ड बैठक में लाया गया है। सभासदों का आरोप है कि निजी स्वार्थ के कारण पालिका के आर्थिक अनावश्यक ब्यय को रोकने में पालिका अध्यक्षा की कोई दिलचस्पी नहीं है। सभासदों ने जिलाधिकारी से मांग की है कि जो लकड़ी का टैंडर रफीक पुत्र पीर मुहम्मद के नाम से किया गया है उसे रद्द कर नई विज्ञप्ति जारी करवाई जाये जिससे पालिका को सस्ते दामों में सूखी एवं जलाऊ लकड़ी मिल सके तथा जनता के पैसे का अनावश्यक ब्यय न हो सके।

शीतकाल में अलाव की लकड़ी में भ्रष्टाचार का आरोप

कोंच के सभासदों ने डीएम को सौपा ज्ञापन, जांच की उठाई मांग

उरई (जालौन)(गोविंद दाऊ):-नगर पालिका परिषद कोंच के आधा दर्जन से अधिक सभासदों में अर्चना रजक, सुनीता वर्मा, वंदना यादव, अरविंद, नसीम, विशाल गिरवासिया, दंगल सिंह, चौ. मुवारिक कुरैशी, सितारा, शमसुद्दीन आदि सभासदों ने आज मंगलवार को सपा नगर अध्यक्ष छोटू टाईगर के नेतृत्व में कलेक्ट्रेट पहुंच जिलाधिकारी को दिये ज्ञापन में आरोप लगाया है कि नगर पालिका परिषद कोंच में शीतकाल में अलाव लगाने हेतु सूखी जलाऊ लकड़ी का क्रय किया जाना था जिसमें नगर पालिका अध्यक्षा ने निजी स्वार्थों की पूर्ति करते हुए गुपचुप तरीके से लकड़ी का क्रय अपने चहेते ठेकेदार रफीक पुत्र पीर मुहम्मद निवासी गोराकरन तहसील कोंच से 555 रुपये प्रति कुंटल टेण्डर प्रदान कर दिया गया जबकि बाजार के अन्य लकड़ी विक्रेता 400-430 रुपये प्रति कुंटल देने को तैयार है। सभासदों का आरोप है कि निजी भ्रष्टाचार में संलिप्त पालिका अध्यक्षा ने अन्य दुकानदारों के कागज तक स्वीकार नहीं किये और न ही लकड़ी क्रय करने का कोई प्रस्ताव बोर्ड बैठक में लाया गया है। सभासदों का आरोप है कि निजी स्वार्थ के कारण पालिका के आर्थिक अनावश्यक ब्यय को रोकने में पालिका अध्यक्षा की कोई दिलचस्पी नहीं है। सभासदों ने जिलाधिकारी से मांग की है कि जो लकड़ी का टैंडर रफीक पुत्र पीर मुहम्मद के नाम से किया गया है उसे रद्द कर नई विज्ञप्ति जारी करवाई जाये जिससे पालिका को सस्ते दामों में सूखी एवं जलाऊ लकड़ी मिल सके तथा जनता के पैसे का अनावश्यक ब्यय न हो सके।

शीतकाल में अलाव की लकड़ी में भ्रष्टाचार का आरोप

कोंच के सभासदों ने डीएम को सौपा ज्ञापन, जांच की उठाई मांग

उरई (जालौन)(गोविंद दाऊ):-नगर पालिका परिषद कोंच के आधा दर्जन से अधिक सभासदों में अर्चना रजक, सुनीता वर्मा, वंदना यादव, अरविंद, नसीम, विशाल गिरवासिया, दंगल सिंह, चौ. मुवारिक कुरैशी, सितारा, शमसुद्दीन आदि सभासदों ने आज मंगलवार को सपा नगर अध्यक्ष छोटू टाईगर के नेतृत्व में कलेक्ट्रेट पहुंच जिलाधिकारी को दिये ज्ञापन में आरोप लगाया है कि नगर पालिका परिषद कोंच में शीतकाल में अलाव लगाने हेतु सूखी जलाऊ लकड़ी का क्रय किया जाना था जिसमें नगर पालिका अध्यक्षा ने निजी स्वार्थों की पूर्ति करते हुए गुपचुप तरीके से लकड़ी का क्रय अपने चहेते ठेकेदार रफीक पुत्र पीर मुहम्मद निवासी गोराकरन तहसील कोंच से 555 रुपये प्रति कुंटल टेण्डर प्रदान कर दिया गया जबकि बाजार के अन्य लकड़ी विक्रेता 400-430 रुपये प्रति कुंटल देने को तैयार है। सभासदों का आरोप है कि निजी भ्रष्टाचार में संलिप्त पालिका अध्यक्षा ने अन्य दुकानदारों के कागज तक स्वीकार नहीं किये और न ही लकड़ी क्रय करने का कोई प्रस्ताव बोर्ड बैठक में लाया गया है। सभासदों का आरोप है कि निजी स्वार्थ के कारण पालिका के आर्थिक अनावश्यक ब्यय को रोकने में पालिका अध्यक्षा की कोई दिलचस्पी नहीं है। सभासदों ने जिलाधिकारी से मांग की है कि जो लकड़ी का टैंडर रफीक पुत्र पीर मुहम्मद के नाम से किया गया है उसे रद्द कर नई विज्ञप्ति जारी करवाई जाये जिससे पालिका को सस्ते दामों में सूखी एवं जलाऊ लकड़ी मिल सके तथा जनता के पैसे का अनावश्यक ब्यय न हो सके।

कोरोना जागरूकता रैली में नगर पालिका अध्यक्ष ने खुलकर उड़ाई धज्जियां

फोटो खिचवाने के चक्कर में शोसल डिस्टेसिंग को ही भूल गये पालिकाध्यक्ष अनिल बहुगुणा

उरई (जालौन)(गोविंद दाऊ) नगर पालिका परिषद उरई के अध्यक्ष अध्यक्ष अनिल बहुगुणा के नेतृत्व में पालिका कर्मचारियों एवं ब्यापारियों के साथ शहर के माहिल तालाब से कोरोना महामारी को रोकने के लिए मुख्य मार्ग से जागरूकता रैली निकाली जो शहर के भगतसिंह चौराहा तक आई। इस दौरान फोटो खिचवाने के चक्कर पालिकाध्यक्ष अनिल बहुगुणा और उनके। साथ चल रहे लोगों ने सोशल डिस्टेसिंग की खुलकर धज्जियां उड़ाते हुए नारे लगा रहे थे दो-गज दूरी मास्क है जरूरी, कोरोना को हराना है मास्क जरूर लगाना है। पालिका अध्यक्ष अनिल बहुगुणा के नेतृत्व में निकाली गयी जागरूकता रैली में किस तरह से सोशल डिस्टेसिंग की धज्जियां उड़ाई गयी जो शहर के भगतसिंह चौराहे से निकलने वाली आम जनता ने जरूर देखा है।