उत्तर प्रदेश जालौन

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की व्यवस्था चरमराई, एक दिन में दो मौतें

उरई (जालौन)।(गोविंद सिंह दाऊ):-। रामपुरा जालौन रामपुरा बीते लगभग 2 बरसों से एक भी फेल नहीं हुए, बीते दिनों जो भी सीरियस मरीज सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में आता था तो उस मरीज को कंट्रोल करके जिला अस्पताल तक सुरक्षित पहुंचा दिया जाता था लेकिन कुछ दिनों पहले से सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की व्यवस्था टोटल चरमरा गई है गत वर्ष पहले मरीजों की लाइन लगी रहती थी लेकिन आज के वर्तमान समय में इक्का-दुक्का मरीज ही देखने को मिल रहे है।
डॉक्टर समीर प्रधान के जाने के बाद चरमराई व्यवस्थाएं एक के बाद एक की होने लगी मृत्यु।
सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र रामपुरा में व्यवस्था ना होने के बावजूद भी मरीज को रेफर की बजाए एडमिट ही रखे रहते हैं मंगलवार को लगभग 11:00 बजे रमेश सक्सेना पुत्र राज बहादुर सक्सेना उम्र लगभग 75 वर्ष जिन्हें गंभीर हालत में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र रामपुरा लाया गया था लेकिन चिकित्सा अधिकारी डॉ अमित कुमार का कहना है कि मरीज को मृत अवस्था में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लाया गया था लेकिन परिजनों का कहना है कि उचित उपचार ना मिलने पर इनकी मृत्यु हो गई। इसी प्रकार सुबह लगभग 8:00 बजे अर्जुन पुत्र बद्री प्रसाद पाल उम्र लगभग 55 वर्ष जोकि शुगर के मरीज थे डॉक्टर ने शुगर टेस्ट करने पर शुगर 55 था डॉ हरिप्रताप ने उपचार हेतु बोतल लगाई जिससे शुगर लेवल 110 पर पहुंच गई जो बोतल हटाने के बाद लगभग 1 घंटा के बाद शुगर लेवल 35 बताई और प्रताप को आनन-फानन में जिला अस्पताल के लिए रेफर कर दिया लेकिन उसकी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मेंही मौके पर मृत्यु हो गई जिससे आज कस्बा रामपुरा समुदायक स्वास्थ्य केंद्र के प्रति काफी रोष व्यक्त हो रहा है।

Leave a Reply