इटावा उत्तर प्रदेश

अवैध बालू खनन पर नहीं लगा रहा अंकुश

इटावा( आशुतोष दुबे )ग्वालियर एवं उदी – वाह मार्ग के माध्यम से अवैध व ओवर लोड खनन परिवहन का कारोबार विधिवत व बड़े पैमाने पर जारी है! कहीं कोई रोक थाम न होने से दलालों व खनन माफियाओं की देखरेख में जिसका संचालन दिन के बजाय रात्रि के समय अधिक हो रहा है !टास्क फोर्स एवं अन्य संबंधित विभागों के मार्ग चेकिंग से गायब रहने अथवा अनदेखी के चलते अवैध खनन ट्रकों का ही नहीं अपितु भारी मात्रा में अवैध खनन ट्रेक्टरों का संचालन होना देखा जा सकता है !
गौरतलब है कि पूर्व में कमिश्नर स्तर के अधिकारियों द्वारा चेकिंग एवं माफियाओं एवं दलालों पर कार्यबाही के साथ ही क्षेत्रीय एवं जिला पुलिस तक आरोपों के घेरे में आ गयी थी ! जिसके बाद जिला प्रशासन द्वारा पुलिस को कार्यप्रणाली में सुधार के अवैध खनन व ओवरलोडिंग रोकने हेतु दिए गए सख्त निर्देशो के साथ गठित टास्क फोर्स को रोड पर उतारा गया! उप जिलाधिकारी के नेतृत्व में टास्क फोर्स द्वारा लगातार कई दिनों तक औचक निरीक्षण भी किया गया ! औचक निरीक्षण से अवैध खनन सहित ओवरलोडिंग माफियाओं में भारी हड़कंप की स्थिति व्याप्त हो चली थी तथा दलाली व अवैध खनन परिवहन पर रोक लगना भी नजर आया था ! लेकिन कुछ हप्ते के बाद से फिर टास्क फोर्स ही संबंधित खनन एवं परिवहन से लेकर वाणिज्य कर आदि विभाग की टीमें भी मार्गो से नदारद होते ही उक्त अवैध कारोबार शुरू हो गया ! तथा आज उक्त अवैध कारोबार बिना किसी रोक टोक के पुनः ट्रकों ही नहीं ट्रेक्टरों के माध्यम से बड़े पैमाने पर संचालित हो रहा है !स्थानीय पुलिस की बात मानी जावे तो उनके द्वारा अवैध खनन व ओवरलोडिंग संचालन से उनका कोई वास्ता नहीं है उनके द्वारा कोई संबंधित ट्रक व ट्रेक्टरों के संचालन पर किसी प्रकार का हस्तक्षेप नही किया जा रहा है ! जिसका फायदा दलाल व माफिया उठाकर बारे न्यारे करने में जुटे हुए है !दलाल व माफिया आज भी अवैध व ओवरलोड़ वाहनों को पुलिस से लेकर परिवहन व खनन आदि की चेकिंग से सुरक्षित मुख्यालय के बाहर तक निकालने के नाम पर धन उगाही करते बताए गए हैं! पुलिस के कथनानुसार वह भले ही रोड पर खनन वाहनों की चेकिंग व जांच से दूर नजर आ रही हो लेकिन रात दिन लक्सरी कारो से दौड़ते दलाल भी नहीं दिखते यह कहना सही नहीं मन जा सकता !
सूत्रों की माने तो तमाम दलाल व माफिया अक्सर थानां के इर्द गिर्द अथवा अंदर गलवाहियां करते दिखाई देते है !जो कि कहीं न कहीं अप्रत्यक्ष गठजोड़ के सवाल खड़े करते हैं ?
यहाँ कहना है कि मध्यप्रदेश सीमाओं से लगने बाले उदी,सहसो एवं लगभग सभी बार्डर क्षेत्रो में अवैध खनन का व्यापार बड़े पैमाने पर संचालित होने के साथ दलालों,माफियाओ की जमकर पो बारह बनी हुई है !

Leave a Reply