ख़बर सुनें

उरई। कभी किसानों की आंखों का तारा था दंतेबाड़ा मटर, पर आज इसकी वजह से किसान खून के आंसू हो रहा हैं। मंडी में किसान को मालामाल करने वाले मटर ने इस साल आर्थिक रूप से कमर तोड़ दी। पिछले साल इस मटर का भाव 10 हजार रुपये था और उससे पिछले सीजन में इस मटर ने 17 हजार रुपये प्रति क्विंटल तक का भाव छुआ था। इसी के चलते अधिकतर किसानों ने इस मटर की बुआई अधिक की। इस कारण मंडी में भरमार हो गई। आज इसका भाव 3500 रुपये प्रति क्विंटल तक है।
जालौन जिला पिछले कई सालों में मटर के उत्पादन में अग्रणी बनकर उभरा है। यहां की हरी मटर की फलियां पूरे देश में सप्लाई हो रहीं हैं। किसान इसमें अच्छा मुनाफा ले रहे हैं। हरी मटर की फली वाली किस्मों में एपी-3 और जीएस-10 मुख्य हैं। इसके अलावा सफेद मटर की भी अच्छी खासी पैदावार होती है। इसमें आजाद, पूसा-10, पंत-13 प्रमुख किस्में हैं। पिछले दो-तीन सालों में दंतेवाड़ा मटर खूब लोकप्रिय है। ये हरे रंग मटर नमकीन बनाने के काम आती है। इस कारण व्यापारियों की प्राथमिकता है।
उरई गल्ला मंडी स्थित आढ़ती संदीप राजपूत ने बताया कि कानपुर और बुंदेलखंड की सभी मंडियों से उरई में दंतेवाड़ा मटर का सबसे अच्छा भाव मिल रहा है। बताया कि इस साल अधिक पैदावार हुई है। बाजार में इसको खपा पाना मुश्किल हो गया है। जिला कृषि अधिकारी गौरव यादव ने बताया कि पिछले दो साल में इस मटर का रकबा बहुत तेजी से बढ़ा। बाजार की मांग के हिसाब से कई गुना अधिक माल मंडी में पहुंच रहा है। इसके अलावा इसकी पैदावार भी अच्छी हुई।
—————-
भंडारण की क्षमता न होने से गिरा रेट
मटर का भंडारण किसानों के लिए चुनौती है। सरसों, गेहूं और अन्य फसलों की अपेक्षा मटर में डंकी नामक कीड़ा बहुत तेजी से लगता है, जो मटर की उपज को खराब कर देता है। इसके अलावा इस मटर का यदि सही से भंडारण न किया जाए तो इसका रंग बहुत तेजी से बदल जाता है। इस कारण भी व्यापारी ेने से कतराते हैं। जालौन जिले में दो ही कोल्ड स्टोरेज हैं. वह भी बहुत जल्दी भर गए। इसके अलावा इटावा में भी कोल्ड स्टोरेज की क्षमता फुल हो गई। बाद में पंजाब, दिल्ली हरियाणा का व्यापारी ने भी मंडी से दूरी बना ली, जिसके चलते रेट गिर गए।
————————
मटर, गेहूं और सरसों का रकबा
फसल 2020-21 में रकबा 2021-22 में रकबा
मटर 110031 हेक्टेयर 128823 हेक्टेयर
गेहूं 127410 हेक्टेयर 101714 हेक्टेयर
सरसों 21360 हेक्टेयर 28201 हेक्येयर

उरई। कभी किसानों की आंखों का तारा था दंतेबाड़ा मटर, पर आज इसकी वजह से किसान खून के आंसू हो रहा हैं। मंडी में किसान को मालामाल करने वाले मटर ने इस साल आर्थिक रूप से कमर तोड़ दी। पिछले साल इस मटर का भाव 10 हजार रुपये था और उससे पिछले सीजन में इस मटर ने 17 हजार रुपये प्रति क्विंटल तक का भाव छुआ था। इसी के चलते अधिकतर किसानों ने इस मटर की बुआई अधिक की। इस कारण मंडी में भरमार हो गई। आज इसका भाव 3500 रुपये प्रति क्विंटल तक है।

जालौन जिला पिछले कई सालों में मटर के उत्पादन में अग्रणी बनकर उभरा है। यहां की हरी मटर की फलियां पूरे देश में सप्लाई हो रहीं हैं। किसान इसमें अच्छा मुनाफा ले रहे हैं। हरी मटर की फली वाली किस्मों में एपी-3 और जीएस-10 मुख्य हैं। इसके अलावा सफेद मटर की भी अच्छी खासी पैदावार होती है। इसमें आजाद, पूसा-10, पंत-13 प्रमुख किस्में हैं। पिछले दो-तीन सालों में दंतेवाड़ा मटर खूब लोकप्रिय है। ये हरे रंग मटर नमकीन बनाने के काम आती है। इस कारण व्यापारियों की प्राथमिकता है।

उरई गल्ला मंडी स्थित आढ़ती संदीप राजपूत ने बताया कि कानपुर और बुंदेलखंड की सभी मंडियों से उरई में दंतेवाड़ा मटर का सबसे अच्छा भाव मिल रहा है। बताया कि इस साल अधिक पैदावार हुई है। बाजार में इसको खपा पाना मुश्किल हो गया है। जिला कृषि अधिकारी गौरव यादव ने बताया कि पिछले दो साल में इस मटर का रकबा बहुत तेजी से बढ़ा। बाजार की मांग के हिसाब से कई गुना अधिक माल मंडी में पहुंच रहा है। इसके अलावा इसकी पैदावार भी अच्छी हुई।

—————-

भंडारण की क्षमता न होने से गिरा रेट

मटर का भंडारण किसानों के लिए चुनौती है। सरसों, गेहूं और अन्य फसलों की अपेक्षा मटर में डंकी नामक कीड़ा बहुत तेजी से लगता है, जो मटर की उपज को खराब कर देता है। इसके अलावा इस मटर का यदि सही से भंडारण न किया जाए तो इसका रंग बहुत तेजी से बदल जाता है। इस कारण भी व्यापारी ेने से कतराते हैं। जालौन जिले में दो ही कोल्ड स्टोरेज हैं. वह भी बहुत जल्दी भर गए। इसके अलावा इटावा में भी कोल्ड स्टोरेज की क्षमता फुल हो गई। बाद में पंजाब, दिल्ली हरियाणा का व्यापारी ने भी मंडी से दूरी बना ली, जिसके चलते रेट गिर गए।

————————

मटर, गेहूं और सरसों का रकबा

फसल 2020-21 में रकबा 2021-22 में रकबा

मटर 110031 हेक्टेयर 128823 हेक्टेयर

गेहूं 127410 हेक्टेयर 101714 हेक्टेयर

सरसों 21360 हेक्टेयर 28201 हेक्येयर



Source link

0Shares

BEREKING NEWS

%d bloggers like this: