अमर उजाला ब्यूरो, गोरखपुर।
Published by: vivek shukla
Updated Wed, 18 May 2022 12:25 PM IST

सार

कोरोनारोधी टीका लगवाने के मामले में शासन ने दी सहूलियत, अब तक दूसरी डोज लेने के नौ माह बाद ही लगवा सकते थे बूस्टर डोज।

ख़बर सुनें

गोरखपुर में विदेश जाने वाले लोगों के लिए राहत भरी खबर है। वे कोरोनारोधी टीके की दूसरी डोज लेने के 90 दिन बाद बूस्टर डोज (प्रीकॉशन डोज) लगवा सकते हैं।  इसके बाद विदेश जाने का प्रमाणपत्र दिखाने की अनिवार्यता भी नहीं होगी।

जानकारी के मुताबिक, सीएमओ से अनुमति लेने के बाद सरकारी अस्पताल पर बूस्टर डोज लग जाएगी। सीएमओ डॉ. आशुतोष कुमार दूबे ने बताया कि विदेश जाने वाले लोगों के लिए शासन ने दूसरी डोज के 90 दिन बाद सरकारी बूथों पर बूस्टर डोज लगाने की अनुमति दी है।

इससे पहले फ्रंटलाइन वर्करों, हेल्थ वर्करों और बीमार-बुजुर्गों को टीके की दूसरी डोज लेने के नौ महीने बाद सरकारी अस्पतालों पर बूस्टर डोज लगाई जा रही थी। अब विदेश जाने वालों के लिए नियम में ढील दी गई है।

विस्तार

गोरखपुर में विदेश जाने वाले लोगों के लिए राहत भरी खबर है। वे कोरोनारोधी टीके की दूसरी डोज लेने के 90 दिन बाद बूस्टर डोज (प्रीकॉशन डोज) लगवा सकते हैं।  इसके बाद विदेश जाने का प्रमाणपत्र दिखाने की अनिवार्यता भी नहीं होगी।

जानकारी के मुताबिक, सीएमओ से अनुमति लेने के बाद सरकारी अस्पताल पर बूस्टर डोज लग जाएगी। सीएमओ डॉ. आशुतोष कुमार दूबे ने बताया कि विदेश जाने वाले लोगों के लिए शासन ने दूसरी डोज के 90 दिन बाद सरकारी बूथों पर बूस्टर डोज लगाने की अनुमति दी है।

इससे पहले फ्रंटलाइन वर्करों, हेल्थ वर्करों और बीमार-बुजुर्गों को टीके की दूसरी डोज लेने के नौ महीने बाद सरकारी अस्पतालों पर बूस्टर डोज लगाई जा रही थी। अब विदेश जाने वालों के लिए नियम में ढील दी गई है।



Source link

0Shares