ख़बर सुनें

अजीतमल। औरैया से मुरादगंज की दूरी 15 किलोमीटर है। साईं मंदिर से पहुंचने में कार सवारों को 15 मिनट लगे। उन्हें नहीं मालूम था कि इन 15 मिनट में उनका हंसता खेलता परिवार एक साथ बिखर जाएगा। रविकांत अपनी कार से औरैया आए थे और कार विवेक चला रहे थे। हादसे की जानकारी इटावा से रविकांत और विवेक के परिजन अजीतमल अस्पताल पहुंचे। परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल था। मृतक रविकांत के भाई शिव दीक्षित ने बताया कि पिता प्रताप बाबू इटावा में स्टांप वेंडर हैं। घर में सबसे बड़े रविकांत थे। कई दिन से विवेक और रविकांत औरैया साईं मंदिर घूमने आने की तैयारी कर रहे थे। परिवार के लोग एक दूसरे को ढांढस बंधाते नजर आए।

अजीतमल। औरैया से मुरादगंज की दूरी 15 किलोमीटर है। साईं मंदिर से पहुंचने में कार सवारों को 15 मिनट लगे। उन्हें नहीं मालूम था कि इन 15 मिनट में उनका हंसता खेलता परिवार एक साथ बिखर जाएगा। रविकांत अपनी कार से औरैया आए थे और कार विवेक चला रहे थे। हादसे की जानकारी इटावा से रविकांत और विवेक के परिजन अजीतमल अस्पताल पहुंचे। परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल था। मृतक रविकांत के भाई शिव दीक्षित ने बताया कि पिता प्रताप बाबू इटावा में स्टांप वेंडर हैं। घर में सबसे बड़े रविकांत थे। कई दिन से विवेक और रविकांत औरैया साईं मंदिर घूमने आने की तैयारी कर रहे थे। परिवार के लोग एक दूसरे को ढांढस बंधाते नजर आए।





Source link

0Shares

ताज़ा ख़बरें

%d bloggers like this: