उत्तर प्रदेश जालौन

ओवरलोड ट्रको के के गुजरने से कालपी के यमुना पुल में खराबी की आशंका बढ़ी

उरई (जालौन) परिवहन अधिकारियों की तमाम कोशिशों के बावजूद झांसी – कानपुर के बीच ओवरलोड खनन लदे वाहनो के संचालन मे कमी नहीं आ पा रही है। फलस्वरुप गाड़ियां खराब होने के कारण कालपी बाईपास हाईवे रोड मे जाम का झाम फिर शुरू हो गया है। गाड़ियों में बैठी सवारियों के अलावा कालपी के वाशिंदों को मुसीबतों से गुजरना पड़ रहा है। अगर लगातार हाल रहा तो ओवरलोड के कारण यमुना नदी का पुल एक बार फिर खराब हो सकता है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार नदियाँ के मौरम खनन के घाटों मे बालू खनन का कार्य जोर पकड़ गया है। खनन क्षेत्रों से गिट्टी तथा बालू के ओवरलोड ट्रक भरकर राष्ट्रीय राजमार्ग 27 से कालपी हाइवे मे होकर गुजरते हैं। स्थानीय प्रशासन, खनन, परिवहन तथा पुलिस महकमे के जिम्मेदार अफसर ओवरलोड ट्रकों के संचालन तथा अवैध खनन के खिलाफ संयुक्त रूप से कार्यवाही करके गाड़ियों को सीज करके भारी भरकम धनराशि का समन शुल्क वसूलते है बावजूद इसके ओवरलोड वाहनो के संचालन रात मे कमी नहीं दिखाई दे रही है।कथित तौर पर लुकेशन तथा फीलगुड की इंट्री वसूली के फलस्वरुप ओवरलोड ट्रक चलाने वालों के हौसले बुलंद है। स्मरण हो कि कालपी बाईपास हाईवे की पौने दो किलोमीटर सड़क चौड़ीकरण कार्य निर्माणाधीन है। जो चालू सड़क भी है वह टूटी-फूटी है ।ओवरलोड ट्रक जब कालपी बाईपास से गुजरते हैं। गड्ढों में फंसकर हाइवे रोड पर ओवरलोड ट्रक खराब हो जाते हैं। फलस्वरूप हाइवे रोड पर जाम लग जाता ह‌ै। कालपी हाइवे पर गाड़ियों के जाम लग जाने से स्थानीय नागरिकों के सामने भी मुसीबत आ जाती ह‌ै। वाहनों की रात दिन 3- 4 किमी. लंबी-लंबी कतारें लग जाती है। इस सम्बन्ध में राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण की कार्यदायी संस्था के जनसंपर्क अधिकारी डी. एन. त्रिपाठी ने बताया कि एग्रीमेंट के मुताबिक हम लोगों के पास हाइवे पर जाम में फंसे वाहनों को हटाने के लिए 20 टन क्षमता की क्रेन उपलब्ध है। लेकिन ओवरलोड बालू लदे वाहनों का लोड 50 – 60 टन के आसपास का होता हैं। ऐसी परिस्थितियों मे खराब ओवरलोड वाहन को क्रेन के माध्यम से हटाया नहीं जा सकता है। इस परिस्थितियों के कारण कालपी में जाम की समस्या बन जाती है। जनसमपर्क अधिकारी के मुताबिक जब तक ओवरलोड वाहनों पर पूरी तरह से नियंत्रण नहीं किया जायेगा।तब तक जाम की हालत में सुधार नहीं हो सकता हैं। उन्होंने कहा कि ओवरलोड वाहनों के संचालन के कारण कालपी के पुराने पुल में फिर से खराब होने का संकट पैदा हो रहा है।स्मरण हो कि ओवरलोड वाहनों के संचालन के कारण कालपी का यमुना नदी के पुल में पहले भी तीन बार तकनीकी खराबियों की बजह से आवागमन ठप्प करना पड़ा था।जाम के कारण यमुना नदी कालपी के पुराने तथा नये दोनों पुल वाहनों से पटी रहती हैं एवं गाड़ियां रेंग रेंग कर निकलती हैं। इसलिए जनहित मे अपेक्षा है कि अवैध खनन तथा ओवरलोड वाहनों के संचालन को शीघ्र बंद कराया जाये।उल्लेखनीय हो कि
कालपी – ललितपुर एंव झांसी जनपदों के क्रेशरों से गिट्टी तथा डस्ट लदे ओवरलोड वाहन राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 27 से एट उरई, आटा, कालपी पुल से होकर धडल्ले से निकल जाती है।

Leave a Reply