उत्तर प्रदेश जालौन

रामपुरा थानाध्यक्ष पर महिलाओं ने अभद्रता का आरोप

उरई (जालौन)(गोविंद सिंह दाऊ):-. । योगी सरकार में महिलायों को न्याय दिलाने की प्रतिबद्धता थाना इंचार्ज हवा में उड़ाने का काम कर रहे हैं। उच्चाधिकारी लगातार थाना स्तर पर फरियादियों के साथ अच्छा व्यवहार करने के निर्देश दिए जाते हैं लेकिन रामपुरा कोतवाल भगवती प्रसाद मिश्रा पर इसका कोई असर नहीं हो रहा है। भट्टे पर काम करने वाली दो महिलायों ने कोतवाल पर गाली-गलौज करने और आरोपियों का साथ देने का आरोप लगाया है। रात में अनंत भट्टा पर संतोष पुत्र गयाराम को मगरूर ने अपने तीन साथियों के साथ पीट दिया। जिसकी सूचना डायल 100 को दी,घटना से मगरूर को पुलिस थाने ले आई और पीड़ित को सुबह थाना में आने को कह दिया। सुबह जब पीड़ित संतोष अपने भाई मनमोहन और भाभी समरवती के साथ थाना पहुंचा तो कोतवाल ने उस पर समझौता करने का दबाव बनाया लेकिन उसने कार्यवाही की मांग की। इस पर गुस्साए कोतवाल ने आरोपी को छोड़ दिया और पीड़ित को लॉकअप में बंद कर दिया। भाई और भाभी को गालियां देते हुए थाना से भगा दिया। वहीं दूसरा मामला भी अनंत भट्टा पर सुनीता पत्नी जयकरन का है,जिसके साथ शिशुपाल ने छेड़खानी कर दी। उसकी शिकायत पर भी कोतवाल ने कार्यवाही की वजाय पीड़िता से ही अभद्रता करते हुए थाना से भगा दिया। ऐसी स्थिति में महिलायों को कैसे न्याय मिलेगा? वो बात अलग है कि एक दिन पहले ही अपर पुलिस अधीक्षक डॉ अवधेश सिंह ने ओआर करते समय थानाध्यक्षों को फरियादियों के साथ अच्छा व्यवहार करने का आदेश दिया था।

Leave a Reply