ख़बर सुनें

इटावा। 15 नवंबर तक गांवों की 1650 सड़कों को गड्ढ़ामुक्त करना लोक निर्माण विभाग के लिए चुनौती होगा। वहीं मुख्य जिला मार्गों पर भी 50 प्रतिशत काम ही पूरा हो सका है।
शासन ने 15 नवंबर तक सड़कें गड्ढ़ामुक्त करने का आदेश दिया है। जिले में कुल 1754 सड़कें चिह्नित की गईं हैं। 5.78 करोड़ रुपये की लागत से इन सड़कों को गड्ढ़ा मुक्त किया जाएगा। इनमें सबसे अधिक सड़कें गांवों की हैं।
उधर बकेवर-लखना चकरनगर मार्ग समेत दो सड़कों पर काम शुरू नहीं हो सका है। 58 सड़कों में आधी सड़कों पर ही काम पूूूरा हो सका है। ऐसे में बचा काम 17 दिनों में पूरा करना मुश्किल हो सकता है।
सहायक अभियंता गौरव जैन ने बताया कि शहर की अधिकांश सड़कों पर काम पूरा हो चुका है। कुछ दिन पहले महेराचुंगी क्षेत्र में बिजली की दिक्कत होने की वजह से बिजली विभाग की ओर से सड़क खोदवा दी गई थी। उसे दोबारा बनवाना है। इस तरह बस स्टैंड के पास भी नगर पालिका की ओर से नाला निर्माण के लिए सड़क खोदी गई है। दोनों की सड़कों को 15 नवंबर से पहले पूरा करा दिया जाएगा।
अधीक्षण अभियंता नरेश चंद्र ने बताया कि शहर की अधिकांश सड़कों पर काम पूरा हो चुका है। बचा काम 5 नवंबर तक पूरा करने का लक्ष्य है। साथ ही ग्रामीण सहित अन्य सड़कों का भी 50 प्रतिशत से अधिक काम हो चुका है। 15 नवंबर तक कार्य किसी भी हाल में पूरा कर लिया जाएगा।

इटावा। 15 नवंबर तक गांवों की 1650 सड़कों को गड्ढ़ामुक्त करना लोक निर्माण विभाग के लिए चुनौती होगा। वहीं मुख्य जिला मार्गों पर भी 50 प्रतिशत काम ही पूरा हो सका है।

शासन ने 15 नवंबर तक सड़कें गड्ढ़ामुक्त करने का आदेश दिया है। जिले में कुल 1754 सड़कें चिह्नित की गईं हैं। 5.78 करोड़ रुपये की लागत से इन सड़कों को गड्ढ़ा मुक्त किया जाएगा। इनमें सबसे अधिक सड़कें गांवों की हैं।

उधर बकेवर-लखना चकरनगर मार्ग समेत दो सड़कों पर काम शुरू नहीं हो सका है। 58 सड़कों में आधी सड़कों पर ही काम पूूूरा हो सका है। ऐसे में बचा काम 17 दिनों में पूरा करना मुश्किल हो सकता है।

सहायक अभियंता गौरव जैन ने बताया कि शहर की अधिकांश सड़कों पर काम पूरा हो चुका है। कुछ दिन पहले महेराचुंगी क्षेत्र में बिजली की दिक्कत होने की वजह से बिजली विभाग की ओर से सड़क खोदवा दी गई थी। उसे दोबारा बनवाना है। इस तरह बस स्टैंड के पास भी नगर पालिका की ओर से नाला निर्माण के लिए सड़क खोदी गई है। दोनों की सड़कों को 15 नवंबर से पहले पूरा करा दिया जाएगा।

अधीक्षण अभियंता नरेश चंद्र ने बताया कि शहर की अधिकांश सड़कों पर काम पूरा हो चुका है। बचा काम 5 नवंबर तक पूरा करने का लक्ष्य है। साथ ही ग्रामीण सहित अन्य सड़कों का भी 50 प्रतिशत से अधिक काम हो चुका है। 15 नवंबर तक कार्य किसी भी हाल में पूरा कर लिया जाएगा।





Source link

0Shares

ताज़ा ख़बरें

%d bloggers like this: