ख़बर सुनें

इटावा। हर घर तिरंगा अभियान अब गांव गांव गली गली पहुंच रहा है। जिले में लक्ष्य से एक लाख अधिक झंडे लगाये जाने की तैयारी है।
वहीं इन झंडों ने राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन से जुड़े स्वयं सहायता समूहों की महिलाओं को भी रोजगार देने का काम किया है। 36 समूहों से जुड़ी 845 महिलाओं को ढाई लाख रुपये की आमदनी हुई है।
झंडों की आपूर्ति का काम स्वयं सहायता समूहों से जुड़ी महिलाओं को दिया गया। महिलाओं ने विभिन्न सरकारी विभागों को 1.10 लाख झंडों की आपूर्ति की।
बाकी झंडे सूक्ष्म लघु उद्योग विभाग और अन्य स्थानों से मंगवाये गये है। उपायुक्त स्वरोजगार बृजमोहन अम्बेड ने बताया कि सरकारी विभागों को मांग के सापेक्ष झंडों की आपूर्ति की जा चुकी है।
भुगतान भी अधिकांश विभागों ने कर दिया है। इस काम से स्वयं सहायता समूहों से जुड़ी महिलाओं को रोजगार मिला।
डीपीआरओ बनवारी सिंह ने बताया कि जिले में 3.33 लाख तिरंगे झंडे लगाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। शनिवार तक नगरीय और ग्रामीण क्षेत्र में लक्ष्य से अधिक 4.02 लाख झंडे लगाये जा चुके हैं।
अब लक्ष्य 4.37 लाख ध्वजारोहरण का है। 37 हजार अतिरिक्त झंडे वितरित कराये जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि झंडों की आपूर्ति पर्याप्त मात्रा में की जा चुकी है।

इटावा। हर घर तिरंगा अभियान अब गांव गांव गली गली पहुंच रहा है। जिले में लक्ष्य से एक लाख अधिक झंडे लगाये जाने की तैयारी है।

वहीं इन झंडों ने राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन से जुड़े स्वयं सहायता समूहों की महिलाओं को भी रोजगार देने का काम किया है। 36 समूहों से जुड़ी 845 महिलाओं को ढाई लाख रुपये की आमदनी हुई है।

झंडों की आपूर्ति का काम स्वयं सहायता समूहों से जुड़ी महिलाओं को दिया गया। महिलाओं ने विभिन्न सरकारी विभागों को 1.10 लाख झंडों की आपूर्ति की।

बाकी झंडे सूक्ष्म लघु उद्योग विभाग और अन्य स्थानों से मंगवाये गये है। उपायुक्त स्वरोजगार बृजमोहन अम्बेड ने बताया कि सरकारी विभागों को मांग के सापेक्ष झंडों की आपूर्ति की जा चुकी है।

भुगतान भी अधिकांश विभागों ने कर दिया है। इस काम से स्वयं सहायता समूहों से जुड़ी महिलाओं को रोजगार मिला।

डीपीआरओ बनवारी सिंह ने बताया कि जिले में 3.33 लाख तिरंगे झंडे लगाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। शनिवार तक नगरीय और ग्रामीण क्षेत्र में लक्ष्य से अधिक 4.02 लाख झंडे लगाये जा चुके हैं।

अब लक्ष्य 4.37 लाख ध्वजारोहरण का है। 37 हजार अतिरिक्त झंडे वितरित कराये जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि झंडों की आपूर्ति पर्याप्त मात्रा में की जा चुकी है।



Source link

0Shares

ताज़ा ख़बरें

%d bloggers like this: