उत्तर प्रदेश जालौन

जानलेवा हो सकती है तीव्र ढाल पर गहरे गड्डो वाली उखडी सड़क

० रास्ता ठीक कराने के लिए प्रशासन को कुछ लाशों की दरकार ?

उरई (जालौन)(गोविंद सिंह दाऊ):-। । तीव्र ढाल पर गहरे गहरे गड्ढों से युक्त पूर्ण रूप से उखडी सड़क कभी किसी बड़ी दुर्घटना का कारण बनकर जानलेवा सिद्ध हो सकती है।
जिला मुख्यालय उरई से 65 किलोमीटर दूर जनपद के प्रमुख तीर्थ क्षेत्र पंचनद जिसे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पर्यटन के रूप में विकसित करने की घोषणा कर यहां के विकास के लिए करोड़ों रुपयों की कार्य योजना भी बनवा दी तथा उसके लिए धन भी स्वीकृत कर निर्गत कर दिया है उसी तीर्थ क्षेत्र पंचनद के लिए आने जाने का एकमात्र रास्ता ग्राम जगम्मनपुर में तीव्र डाल पर पूरी तरह से उखड़ कर गहरे गहरे गड्ढों में तब्दील हो गया है परिणाम स्वरूप यहां पूरे दिन किसी भी छोटी बड़ी दुर्घटना की संभावना बनी रहती है ।
ज्ञात हो कि गत 3 वर्ष पूर्व इस सड़क को प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत निर्मित कराया गया था जिसमें माधौगढ़ से कर्ण खेरा मंदिर तक 20 किलोमीटर सड़क का निर्माण होना था लेकिन दुर्भाग्यपूर्ण यह हुआ कि ठेकेदार ने पूर्व में बनी जनपद की सबसे बेहतरीन सड़क उखाड कर सबसे घटिया किस्म की सड़क का निर्माण कर दिया जो पूरे बर्ष भर उखड़ा ही रहता है लेकिन उससे भी अधिक दुर्भाग्यपूर्ण यह रहा कि ग्राम जगम्मनपुर में कंजौसा तथा जूहीखा पुल जाने के लिए एक मात्र रास्ते में दलित वस्ती के बीच से गुजरने वाले तीव्र ढाल युक्त सड़क पर काम नहीं किया गया जिसकी लंबाई लगभग डेढ़ सौ मीटर है। यह तीब्र ढालमयी सड़क पूरी तरह से उखडी एवं इसमें 1 से 2 फुट गहरे-गहरे गड्ढे हैं जो किसी वाहन को ढाल के ऊपर चढ़ने में अथवा उतरने में एवरेस्ट पर्वत जैसी कठिनाई पैदा करते हैं । इस ढाल पर सकरी सड़क में गहरे गड्ढों के बीच छोटे बड़े वाहनों के झूल झूल कर उतरने एवं भयंकर आवाज के साथ ऊपर चढ़ने का नजारा बड़ा भयानक होता है । प्रतिदिन छोटे-बड़े वाहनों का अधिक संख्या में आवागमन व दिन में कई वाहनों का ढाल पर खराब हो जाना अथवा किसी गड्ढे में फस कर रह जाने से लगने वाला जाम यात्रियों के लिये परेशानी का कारण बन जाती है ।
स्थानीय निवासी व्यापार मंडल के अध्यक्ष एवं भाजपा नेता विजय द्विवेदी का कहना है कि प्रशासन को इस बारे में कई बार अवगत कराया गया है लेकिन प्रशासन को शायद किसी बड़ी दुर्घटना या कुछ यात्रियों की मौत का इंतजार है तभी इस रास्ते का निर्माण कराया जाएगा । ग्राम प्रधान जगम्मनपुर राहुल मिश्रा के अनुसार इस रास्ते पर प्रतिवर्ष दस बारह हजार रुपया खर्च करके गिट्टी मिट्टी भरवा कर काम चलाऊ व्यवस्था की जाती है ताकि कोई अनहोनी न घट सके लेकिन प्रशासन ध्यान नहीं दे रहा है । बाबा साहब मंदिर प्रबंध समिति के रामअवतार तिवारी के अनुसार आने वाले श्रद्धालुओं के लिए रास्ता परेशानी पैदा करने वाला है दूरदराज तक पंचनद क्षेत्र के रास्ते के प्रति खराब संदेश फैल रहा है इससे पर्यटकों व श्रद्धालुओं आना बहुत कम हो गया है ।