उरई जालौन:- आज नर्स दिवस के अवसर पर सुनील हिन्दुस्तानी के नेतृत्व में जिला अस्पताल उरई में रक्तदान का आयोजन किया गया है |
जिसमें सुनील हिन्दुस्तानी सहित 4 लोगों ने रक्तदान किया, और उनको ओम सेवा संस्थान के माध्यम से प्रमाण-पत्र भी बितरित किये गए |
सुनील हिन्दुस्तानी ने कहा कि रक्त की कोई जाति या धर्म नहीं होता है और परमेश्वर ने भी रक्त का बटवारा नहीं किया है | इसलिए हम अपने जीवन में कम से कम 5 बार रक्तदान कर जीवन दान दे सकते है | रक्तदान से बड़ा कोई भी दान नहीं होता है |
रक्तकोष प्रभारी सुशील द्विवेदी ने कहा कि आज रक्त की आवश्यकता बढ़ती जा रही है, डिलीवरी, डायलेसिस, ऑपरेशन, सुगर, कैंसर आदि बीमारी में रक्त की बहुत जरुरत होती है | जिला अस्पताल में समय समय पर रक्तदान के शिविर आयोजित किये जाते है, जिसमें कोई भी व्यक्ति अपना रक्तदान कर जीवनदान में भागीदार बन सकता है |
आगे गीता भारती ने बताया कि रक्त लेने के लिए बहुत मांग होती है लेकिन रक्त देने के लिए लोग पीछे हट जाते है | हम लोगों को अपनी सोच में बदलाव लाना होगा और रक्तदान में बढ़-चढ़ कर हिस्सा लेना चाहिए | रक्तदान के सम्बन्ध में कुछ भ्रान्तियाँ फैली है जो सब गलत है, रक्तदान से कोई कमजोरी या किसी प्रकार की कोई बीमारी नहीं होती है |
आगे भारतीय किसान मोर्चा के नगर अध्यक्ष रविन्द्र सेंगर ने सभी रक्तवीरों को धन्यवाद देते हुए कहा कि एक व्यक्ति ही दुसरे व्यक्ति के सुख दुःख का भागीदार बनता है | किसी की परेशानी में मनुष्य का धर्म होता है कि वह उसकी क्षमताअनुसार मदद करे |
इस अवसर पर शिवम्, रिषभ और अनिल ने रक्तदान किया, और आफताब,कन्हैया, निषेक तिवारी, अंशुमन सेंगर, गिरजा देवी, राजा नागर, अतीक खान आदि लोग उपस्थित रहे |

0Shares

Leave a Reply

%d bloggers like this: