उत्तर प्रदेश जालौन

अनियमित तरीके से संचालित हो रहे पैथोलॉजी सेन्टर

० मरीज़ों के स्वास्थ्य से हो रहा खिलवाड़

उरई (जालौन)।(।गोविंद सिंह दाऊ):- चिकित्सीय जांचों के नाम पर खुला फर्जीवाड़ा हो रहा है । लोगों की जिंदगी दांव पर है लेकिन लालच के कारण स्वास्थ्य विभाग ने जिसकी जिम्मेदारी निगरानी की है अपनी आँखों पर पट्टी बांध ली है ।
जालौन जिले में 24 निजी पैथोलोजी सेंटर सीएमओ दफ़्तर में रजिस्टर्ड हैं जिनमें से 17 सेंटर उरई में संचालित हैं । सी एम ओ दफ़्तर इनकी निगरानी करने की बजाय सुविधा शुल्क की वसूली तक अपने सरोकार सीमित रखता है । नतीजतन मरीजों के साथ खिलवाड़ में कोई कसर नहीं छोड़ी जा रही है ।
टीम ने शहर में निजी पैथोलोजी का भ्रमण किया। 90 फीसदी सेंटरों में डाक्टर मौजूद नहीं मिले। डाक्टर तो छोड़िए सैम्पिल लेने के लिए डिप्लोमा होल्डर स्टाफ तक नहीं है । यदि है भी तो एक डिप्लोमा होल्डर नाम के लिए है जबकि दर्जनों का परीक्षण किया जा रहा है और ऐसे में 4-5 प्रशिक्षित टेक्नीशियन का स्टाफ होना चाहिये ।
स्थानीय पैथोलोजी सेंटरों पर हर तरह की जाँच का ठेका लिया जाता है। अगर मशीने हैं तो दिखावे भर के लिए । चायनीज किट से टेस्ट किए जाते हैं जिनमें 35 प्रतिशत मात्र रिजल्ट सही होने की गारंटी रहती है । आखिर मरीजों की यह लूट कब तक जारी रहेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *