ख़बर सुनें

कोसीकलां। विश्व हिंदू परिषद (विहिप) ने संगठन विस्तार के तहत इस बार अधिक से अधिक हिंदुओं को हितचिंतक यानी सदस्य बनाने का निर्णय लिया है। इसके लिए पूरे देश में एक साथ छह से 20 नवंबर तक अभियान चलाया जाएगा। तीन वर्ष में एक बार चलने वाले इस अभियान के तहत इस बार मथुरा जनपद में दस हजार हितचिंतक बनाने की योजना विहिप ने बनाई है।
15 वर्ष से ऊपर का कोई भी व्यक्ति हितचिंतक बन सकता है। जिन्हें हितचिंतक बनाया जाता है। उन्हें 20 रुपये का कूपन दिया जाएगा। विहिप के जिला संगठन मंत्री योगेश पाठक ने कहा कि इस अभियान के तहत हर जाति, पंथ व संप्रदाय के लोगों से संपर्क किया जाएगा। उन लोगों को हिंदू समाज और राष्ट्रहित के कार्यों से जोड़ा जाएगा। जहां तक जनपद की बात है तो 11 प्रखंडों में 10 हजार हितचिंतक बनाने का लक्ष्य तय किया गया है। 2024 में विश्व हिंदू परिषद की स्थापना के साठ वर्ष पूरे हो रहे हैं। जनपद में छह नवंबर से 20 नवंबर को विशेष अभियान चलाया जाएगा जिसमें उस दिन विहिप के प्रत्येक कार्यकर्ता को 50 परिवारों में संपर्क कर 100 लोगों को हितचिंतक बनाना है।
अभियान के अंतर्गत चिकित्सकों, अभियंताओं, सीए, वकीलों, सेवानिवृत्त जजों, गायकों, अभिनेताओं, खिलाड़ियों और अनुसूचित जाति व जनजाति समाज के प्रमुख लोगों को हितचिंतक बनाए जाने का लक्ष्य रखा गया है।

कोसीकलां। विश्व हिंदू परिषद (विहिप) ने संगठन विस्तार के तहत इस बार अधिक से अधिक हिंदुओं को हितचिंतक यानी सदस्य बनाने का निर्णय लिया है। इसके लिए पूरे देश में एक साथ छह से 20 नवंबर तक अभियान चलाया जाएगा। तीन वर्ष में एक बार चलने वाले इस अभियान के तहत इस बार मथुरा जनपद में दस हजार हितचिंतक बनाने की योजना विहिप ने बनाई है।

15 वर्ष से ऊपर का कोई भी व्यक्ति हितचिंतक बन सकता है। जिन्हें हितचिंतक बनाया जाता है। उन्हें 20 रुपये का कूपन दिया जाएगा। विहिप के जिला संगठन मंत्री योगेश पाठक ने कहा कि इस अभियान के तहत हर जाति, पंथ व संप्रदाय के लोगों से संपर्क किया जाएगा। उन लोगों को हिंदू समाज और राष्ट्रहित के कार्यों से जोड़ा जाएगा। जहां तक जनपद की बात है तो 11 प्रखंडों में 10 हजार हितचिंतक बनाने का लक्ष्य तय किया गया है। 2024 में विश्व हिंदू परिषद की स्थापना के साठ वर्ष पूरे हो रहे हैं। जनपद में छह नवंबर से 20 नवंबर को विशेष अभियान चलाया जाएगा जिसमें उस दिन विहिप के प्रत्येक कार्यकर्ता को 50 परिवारों में संपर्क कर 100 लोगों को हितचिंतक बनाना है।

अभियान के अंतर्गत चिकित्सकों, अभियंताओं, सीए, वकीलों, सेवानिवृत्त जजों, गायकों, अभिनेताओं, खिलाड़ियों और अनुसूचित जाति व जनजाति समाज के प्रमुख लोगों को हितचिंतक बनाए जाने का लक्ष्य रखा गया है।





Source link

0Shares

ताज़ा ख़बरें

%d bloggers like this: