ख़बर सुनें

अयोध्या। विश्व हिंदू परिषद के हित चिंतक अभियान का रविवार को रिकाबगंज हनुमानगढ़ी पर श्री हनुमान जी की पूजा-अर्चना करके शुभारंभ किया गया।
श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने साकेत महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. अभय कुमार सिंह को रसीद देकर प्रथम सदस्यता ग्रहण कराई।
चंपत राय ने कहा कि हिंदू समाज की रक्षा एवं हिंदू समाज को जागृत करने का कार्य विश्व हिंदू परिषद 1964 से कर रहा है। समाज को विश्व हिंदू परिषद से जोड़ना ही हमारा हित चिंतक अभियान है।
वर्तमान परिस्थितियों को देखते हुए विश्व हिंदू परिषद ने देशभर में एक करोड़ हित चिंतक बनाने का संकल्प लिया है। चंपत राय ने बताया कि 2022 का हित चिंतक अभियान आज 6 नवंबर से प्रारंभ हो रहा है।
यह अभियान 20 नवंबर तक सारे देश में चलेगा अर्थात अंडमान निकोबार, सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश में भी प्रारंभ हो रहा है जो 15 दिन तक चलेगा। इसमें तीन रविवार आएंगे।
हम सभी कार्यकर्ता घर-घर जाएंगे और हिंदू समाज को अपने साथ जोड़ने की कोशिश करेंगे। इस कोशिश में इसके लिए हम उनसे 20 रुपये मांगेंगे और हित चिंतक अभियान का पत्रक देंगे।
चंपत राय ने कहा कि प्राचीन काल में भारत की सीमाएं दूर-दूर तक थी, आज हमारा देश सिकुड़ गया है। हमारा समाज हमसे दूर चला गया है। हमारे देश में उपासना की स्वतंत्रता है।
पवित्र भारत भूमि पर स्वामी दयानंद, गौतम बुद्ध, महावीर स्वामी आदि के अनुयाइयों की बहुत सारी विचारधाराएं हैं। इन विभिन्न विचारधाराओं और उपासना पद्धतियों को मानने के बावजूद भारत एक है, परंतु विदेशी विचारधारा के अनुयायी बनने के बाद विदेशी विचारधारा के अनुयायियों को अपने पूर्वज ही बुरे लगने लगते हैं।
यही कारण है कि हमारा समाज हमसे दूर हो गया है। विश्व हिंदू परिषद का लक्ष्य है कि हमारा कोई व्यक्ति विदेशी विचारधारा का अनुयायी न बने। हमारा यह भी लक्ष्य है कि विदेशी विचारधारा के व्यक्तियों को उनकी जड़ों की याद दिलाई जाए।
इस कार्यक्रम में धीरेश्वर वर्मा, शैलेंद्र विक्रम सिंह, विजय सिंह बंटी और विश्व हिंदू परिषद के जिला एवं सभी प्रखंडों के समस्त पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता गण उपस्थित रहे।

अयोध्या। विश्व हिंदू परिषद के हित चिंतक अभियान का रविवार को रिकाबगंज हनुमानगढ़ी पर श्री हनुमान जी की पूजा-अर्चना करके शुभारंभ किया गया।

श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने साकेत महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. अभय कुमार सिंह को रसीद देकर प्रथम सदस्यता ग्रहण कराई।

चंपत राय ने कहा कि हिंदू समाज की रक्षा एवं हिंदू समाज को जागृत करने का कार्य विश्व हिंदू परिषद 1964 से कर रहा है। समाज को विश्व हिंदू परिषद से जोड़ना ही हमारा हित चिंतक अभियान है।

वर्तमान परिस्थितियों को देखते हुए विश्व हिंदू परिषद ने देशभर में एक करोड़ हित चिंतक बनाने का संकल्प लिया है। चंपत राय ने बताया कि 2022 का हित चिंतक अभियान आज 6 नवंबर से प्रारंभ हो रहा है।

यह अभियान 20 नवंबर तक सारे देश में चलेगा अर्थात अंडमान निकोबार, सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश में भी प्रारंभ हो रहा है जो 15 दिन तक चलेगा। इसमें तीन रविवार आएंगे।

हम सभी कार्यकर्ता घर-घर जाएंगे और हिंदू समाज को अपने साथ जोड़ने की कोशिश करेंगे। इस कोशिश में इसके लिए हम उनसे 20 रुपये मांगेंगे और हित चिंतक अभियान का पत्रक देंगे।

चंपत राय ने कहा कि प्राचीन काल में भारत की सीमाएं दूर-दूर तक थी, आज हमारा देश सिकुड़ गया है। हमारा समाज हमसे दूर चला गया है। हमारे देश में उपासना की स्वतंत्रता है।

पवित्र भारत भूमि पर स्वामी दयानंद, गौतम बुद्ध, महावीर स्वामी आदि के अनुयाइयों की बहुत सारी विचारधाराएं हैं। इन विभिन्न विचारधाराओं और उपासना पद्धतियों को मानने के बावजूद भारत एक है, परंतु विदेशी विचारधारा के अनुयायी बनने के बाद विदेशी विचारधारा के अनुयायियों को अपने पूर्वज ही बुरे लगने लगते हैं।

यही कारण है कि हमारा समाज हमसे दूर हो गया है। विश्व हिंदू परिषद का लक्ष्य है कि हमारा कोई व्यक्ति विदेशी विचारधारा का अनुयायी न बने। हमारा यह भी लक्ष्य है कि विदेशी विचारधारा के व्यक्तियों को उनकी जड़ों की याद दिलाई जाए।

इस कार्यक्रम में धीरेश्वर वर्मा, शैलेंद्र विक्रम सिंह, विजय सिंह बंटी और विश्व हिंदू परिषद के जिला एवं सभी प्रखंडों के समस्त पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता गण उपस्थित रहे।





Source link

0Shares

ताज़ा ख़बरें

%d bloggers like this: